छत्तीसगढ़

कलयुगी बेटे ने कर दी माँ की हत्या: पहले तो मां को पीटा, फिर वो जब दौड़कर भागने लगी तो उसका पीछा कर शरीर पर पत्थर पटक दिया

गरियाबंद

जिले में एक बेटे ने अपनी बीमार मां को दौड़ा-दौड़ाकर मार डाला। महिला ने इलाज कराने के लिए बेटे को कहा था। इसी बात पर वो नाराज हो गया। इसके बाद उसने पहले तो मां को पीटा, फिर वो जब दौड़कर भागने लगी तो उसका पीछा कर शरीर पर पत्थर पटक दिया। बताया गया कि विवाद इतना बढ़ गया कि उसने अपनी मां को पीटना शुरू कर दिया। उसी दौरान उसकी दोनों छोटी बहनें भी बीच बचाव करने आ गईं, तब भी यु्वक का गुस्सा शांत नहीं हुआ। उसने अपनी दोनों बहनों से भी हाथापाई की।

बेटे का गुस्सा देख महिला भागते हुआ घर के पीछे बने खेत में चले गई। मगर युवक वहां भी पहुंच गया और उसने भारी पत्थर महिला के सिर पर पटका दिया। सिर से काफी खून बहने के कारण उसकी मौके पर ही मौत हो गई। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई है। इतना ही नहीं बीच बचाव करने आई, अपनी दोनों बहनों से भी उसने हाथापाई की है। मामला अमलीपदर थाना क्षेत्र का है।

अमलीपदर इलाके की रहने वाली हराबाई निषाद (47 वर्ष) पिछले कई दिनों से बीमार थी। उसे बार-बार बुखार चढ़ उतर रहा था। इसके बाद भी वो जैसे-तैसे घर का काम कर रही थी। इस बीच बुधवार सुबह साढ़े 10 बजे की करीब जब उसकी तबीयत और बिगड़ने लगी तो उसने अपने बेटे धनसिंह (24 वर्ष) से कहा कि उसे डॉक्टर के पास ले चले। धनसिंह घर में रहता था, वो कुछ काम नहीं करता था। इधर, इलाज कराने की बात सुनते ही धनसिंह नाराज हो गया और अपनी मां से झगड़ा करने लगा था।

घटना के वक्त हराबाई निषाद का पति तसिल राम खेत में काम करने गया था। उसी वक्त ये वारदात हुई है। वारदात को अंजाम देकर वो गांव में ही जाकर छिप गया था। इस घटना की सूचना धनसिंह की बहनों ने अपनी परिजनों को दी थी। इसके बाद पुलिस को भी इस घटनाक्रम के बारे में बताया गयाा। सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। जिसके बाद आरोपी की तलाश की गई। तलाश करने पर आरोपी गांव में ही मिला, लेकिन वह बीमार हो गया था। आरोपी ने बताया कि उसने भी खुदकुशी करने की कोशिश की है। उसने डीजल पी लिया है। जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है और अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसका उपचार जारी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.