छत्तीसगढ़

रेड कॉरिडोर में 4 दर्जन से अधिक नक्सली कोरोना पॉजिटिव

नक्सलियों की केंद्रीय कमेटी ने माना बीमारी से 13 नक्सलियों की हुई मौत

जगदलपुर

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से शीर्ष नक्सलियों की लगातार मौत से लाल गलियारे में दहशत है। अब तक करोड़ों के इनामी आधा दर्जन से अधिक माओवादियों की कोरोना की चपेट में आने से मौत हो चुकी है। दहशत ऐसी है कि बस्तर के सभी सात जिलों में कोरोना से मौत के बजाए जिंदगी बचाने के लिए नक्सली लगातार समर्पण कर रहे हैं। पिछले एक माह में जिन शीर्ष नक्सलियों की कोरोना से मौत हो चुकी है, उनमें सेंट्रल कमेटी मेंबर हरिभूषण सहित डीकेएसजेडसी मेंबर सोबराय, डीवीसीएम गंगा, डीवीसीएम विनोद, एरिया कमेटी मेंबर सरक्का समेत लगभग डेढ़ दर्जन लोकल कैडर शामिल हैं। इन शीर्ष नक्सलियों पर तीन स्टेट की सरकार ने एक करोड़ से अधिक का ईनाम घोषित कर रखा था।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में चार दर्जन से अधिक नक्सली कोरोना संक्रमित हैं। वहीं कोरोना से मौत को देखते हुए स्थानीय व बाहरी नक्सलियों के समर्पण का सिलसिला लगातार जारी है। पिछले एक सप्ताह के अंतराल में एक दर्जन नक्सली समर्पण कर चुके हैं। समर्पण से नक्सल संगठन को लगातार झटका लग रहा है। नक्सल कमांडर रमन्ना के बेटे रंजीत ने भी पांच दिन पूर्व तेलंगाना में सरेंडर किया है।

सप्ताहभर पूर्व नक्सलियों की केंद्रीय कमेटी ने जारी 16 पन्नों के प्रेसनोट में इस बात को माना है कि उनके कई साथियों की कोरोना से मौत हो चुकी है। इनमें कुछ महिला माओवादी भी शामिल हैं। केंद्रीय कमेटी ने पर्चे में 13 माओवादियों की कोराना व अन्य बीमारी से मौत की बात स्वीकार की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.