देश

क्राइम पेट्रोल से सीखा तरीका: पत‍ि की हत्या करवाकर कुएं में शव डालकर लगा द‍िया पौधा

ग्वाल‍ियर

पत्नी ने प्रेमी और उसके दोस्त के हाथों पति की हत्या करा दी. थाने में गुमशुदगी दर्ज कराकर पुलिस को 11 महीने तक गुमराह करती रही. कोर्ट में भी बार-बार पुलिस पर पति की तलाश न करने का आरोप लगाते हुए अर्जी लगाती रही ताकि पुलिस उस पर कतई शक न करे. इधर, कोर्ट से भी पुलिस पर लगातार दबाव पड़ रहा था.

11 महीने बाद पता चला कि जिसे पुलिस खोज रही है, उसकी हत्या हो चुकी है. हत्यारोपी पत्नी, उसका प्रेमी और दोस्त हैं. हस्तिनापुर स्थित चपरोली मौजा के एक खेत में बने पुराने कुएं से पति का कंकाल बरामद हुआ. आरोपियों ने कुएं में लाश फेंकने के बाद उस पर लकड़ी के पटिए रख ऊपर से मिट्‌टी डाल पौधा लगा दिया था, जो इन 11 महीनों में पेड़ हो चुका था. पुलिस ने आरोपी पत्नी, उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है. दोस्त फरार है. पुलिस को गुमराह करना और हत्या से लेकर शव ठिकाने लगाने की साजिश क्राइम पेट्रोल से सीखी.

भितरवार के मोहनगढ़ निवासी फेरन सिंह जाटव (35) 11 महीने पहले 6 अगस्त को लापता हो गया था. गुमशुदगी की र‍िपोर्ट पत्नी मालती (30) ने भितरवार थाने में दर्ज कराई थी. जांच SDOP भितरवार अभिनव बारंगे को सौंपी गई. इधर, पत्नी ने पुलिस पर पति की तलाश न करने का आरोप लगाते हुए कोर्ट में रिट दायर कर दी. कोर्ट में मामला जाते ही पुलिस और गहराई से जांच में जुट गई. पड़ताल में पता चला कि मालती का चरित्र ठीक नहीं है. कृपालपुर निवासी रामअवतार जाटव से उसके मेलजोल की बात सामने आई. वह दो से तीन लोगों पर गलत हरकत का आरोप लगा चुकी है. लापता फेरन के भाई ने भी भाभी पर संदेह जताया था लेकिन, पुलिस के सामने परेशानी यह थी कि जब भी सख्ती से पूछताछ करना चाहती, मालती कोर्ट में जाकर खड़ी हो जाती.

पुलिस ने मालती की जगह, उसके प्रेमी रामअवतार की ओर अपना फोकस किया. पुलिस ने रामअवतार को लगातार चार दिन बुलाकर पूछताछ की. हर बार उसके बयान अलग-अलग होते थे. पुलिस ने जब सख्ती की तो उसने सब कुछ उगल दिया. उसने, मालती और दोस्त शिवराज के साथ फेरन की हत्या कर दी. शिवराज अभी फरार है. पुलिस मालती के घर पहुंची और उसे सामान्य पूछताछ का कहकर थाने ले आई. यहां रामअवतार को हिरासत में देख मालती ने भी अपना जुर्म स्वीकार कर लिया.

मालती और राम अवतार के बीच अवैध संबंध थे. इसका पता उसके पति को चल गया था. 6 अगस्त 2020 को फेरन सिंह को पार्टी करने के लिए शिवराज और रामअवतार ग्वालियर के हस्तिनापुर स्थित चपरोली मौजा के एक खेत में ले गए. यहां पत्नी के सामने रामअवतार और शिवराज ने पत्थर और लोहे के सरिए से हमला कर फेरन की हत्या कर दी. इसके बाद शव कुएं में फेंक दिया. पुराने कुएं आरोपियों ने पौधा तक रोप दिया था. मालती की निशानदेही पर पुलिस ने कुएं से पौधा जो अब पेड़ बन चुका था, को कटवाया. गोताखोर ने कुएं से कंकाल बरामद किया. आरोपियों ने बताया कि वारदात को अंजाम देने से पहले उन्होंने क्राइम पेट्रोल के कई सारे एपिसोड देखे थे. इन्हीं एपिसोड को देख पूरी साजिश रची. वे लगातार कोर्ट में याचिका लगा रहे थे, ताकि पुलिस उनसे पूछताछ न करे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.