बिलासपुर

भालुओं के आतंक से दहशत में ग्रामीण: खेत में काम कर रहे शख्स के शरीर से मांस नोच ले गया, देर रात अस्पताल में भी घुसा

पेंड्रा

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में भालुओं का आतंक लगातार जारी है। बताया गया है कि मरवाही वनमंडल के कोटरियाडांड़ गांव में गुरुवार को एक 45 साल के व्यक्ति को खेत में काम करते वक्त भालू ने हमला कर बुरी तरह से घायल कर दिया। हादसे के बाद शख्स को जिला अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद बिलासपुर रेफर कर दिया गया है। इधर, भाड़ी के उप स्वास्थ्य केंद्र परिसर में भी एक भालू घुस गया था। इस प्रकार हफ्तेभर में भालुओं ने अलग-अलग स्थानों पर कुल 4 लोगों को निशाना बनाया है। जिस समय भालू परिसर में घुसा था, उस वक्त अस्पताल की स्टाफ नर्स गेट के पास गई हुई थी कि अचानक उसकी नजर उसकी स्कूटी पर पड़ गई। जहां भालू खड़ा हुआ था। ये देखते ही वो वापस अस्पताल के अंदर भाई गई। पता चला है कि भालू कुछ देर तक अस्पताल परिसर में ही घूमता रहा। फिर वो वापस जंगल की ओर चला गया। हालांकि राहत के बात ये रही है कि भालू ने किसी को नुकासन नहीं पहुंचाया है। जिले में जंगली जानवारों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। इससे पहले जिले में खासकर मरवाही वन मंडल में हाथियों ने भयंकर उत्पात में मचाया था। इस बीच हफ्तेभर पहले 20 अगस्त को आमाडाड गांव में एमएन सिंह(40) पर दो बच्चों के साथ घूम रही मादा भालू ने हमला कर दिया था। मादा भालू ने नाखून से पेट का मांग नोच लिया था। चीख-पुकार सुनकर पत्नी उन्हें बचाने के लिए आई तो भालुओं ने उस पर भी हमला किया। हैरान करने वाली बात ये है कि मादा भालू एमएन सिंह के घर के पास पहुंच गई थी। उन्होंने खेत जाने के लिए जैसे ही दरवाजा खोला था। वैसे ही मादा भालू ने हमला किया था। 20 अगस्त को ही दिन पेंड्रा के सिलपहरी में भी भालू ने एक वृद्ध महिला सगुनी बाई पत्नी अगरसाय पर हमला कर दिया। सगुनी बाई घर से कुछ दूरी पर बनी बाड़ी में जा रही थी। सूचना मिलने पर पहुंची डायल 112 की टीम ने उसे अस्पताल पहुंचाया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.