छत्तीसगढ़

नक्सलगढ़ में दौड़ी ‘बीजापुर एक्सप्रेस’, पैदल सफर करने वाले ग्रामीणों को मिली राहत, 2 दर्जन गांवों से गुजरेंगी

जगदलपुर 

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के नक्सल प्रभावित इलाकों में पैदल सफर करने वाले ग्रामीणों को राहत मिली है। जिला प्रशासन ने 5 बसों को बीजापुर की सड़कों पर उतारा है। इन बसों का नाम ‘बीजापुर एक्सप्रेस’ रखा गया है। बुधवार से यह सिटी बसें आमजन के लिए अलग-अलग रूट पर दौड़ी । इसका फायदा दो दर्जन से ज्यादा गांवों को मिलेगा। पहले दिन अधिकारी व जनप्रतिनिधियों ने खुद इस बस में बैठ कर कई किमी की दूरी तय की। बाकी प्राइवेट बसों की तुलना में इसमें किराया थोड़ा कम होगा। कलेक्टर रितेश अग्रवाल ने कहा कि, इन बसों के अलग-अलग रूट पर चलने से जिले के अंदरुनी इलाकों के ग्रामीणों को सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा। साथ ही पास भी बनाए जाएंगे। बीजापुर जिले के धुर नक्सल प्रभावित इलाके सिलगेर, आवापल्ली, बेचापाल, मिरतुर, भैरमगढ़, नैमेड़, तारलागुड़ा व भोपालपटनम रूट पर बसें दौड़ेंगी। इनमें से कई इलाके ऐसे हैं जहां नक्सल दहशत की वजह से कोई भी सवारी वाहन नहीं चलते हैं। ऐसे में प्रशासन ने जिन 5 बसों को इन सड़कों पर उतारा है उसका बड़ा फायदा इलाके के ग्रामीणों को मिलेगा। ग्रामीण अब ब्लॉक से लेकर जिला मुख्यालय तक सीधे जुड़ पाएंगे। क्षेत्रफल की दृष्टि से बीजापुर जिला काफी बड़ा है। साथ ही कई ऐसे इलाके हैं जो आज भी नक्सलियों के कब्जे में हैं। कई गांवों तक पहुंचने पक्की सड़क भी नहीं हैं। जिन इलाकों में सड़क बनी है तो वहां नक्सली दहशत की वजह से कोई भी प्राइवेट बसें नहीं चलती है। ऐसे में जिले के अंदरुनी गांव के ग्रामीणों को कई किमी का पैदल सफर तय ब्लॉक व जिला मुख्यालय आना पड़ता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.