छत्तीसगढ़

चोरी मामले में मुख्य आरोपी की पत्नी, मामा, जीजा और दोस्त गिरफ्तार, ज्वैलर्स से नीले बैग में भरकर ले गए थे 77 लाख के गहने, एक आरोपी फरार

धमतरी 

संकलेचा ज्वैलर्स और प्रवीण ज्वैलर्स से 77 लाख रुपए से ज्यादा के गहने और नकदी चोरी करने वाली चोर फैमिली गिरोह को पुलिस ने पकड़ा है। इस गिरोह में पति-पत्नी, जीजा-साला, मामा सब शामिल हैं। पुलिस ने गिरोह के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया है।  जानकारी के मुताबिक, सदर बाजार स्थित संकलेचा ज्वैलर्स और प्रवीण ज्वेलर्स से 1 अक्टूबर की रात चोरों ने सोने-चांदी के गहनों और रुपए पार कर दिए थे। ज्वेलर राजकुमार संकलेचा के मकान से प्लास्टिक डिब्बों व पर्स में रखे करीब 21 लाख के गहने और साढ़े 6 लाख रुपए नकद ले गए थे। अभी एक आरोपी फरार है। आरोपियों का पीछा करने के दौरान उन्होंने पत्थर भी फेंके। इसमें एक कॉन्स्टेबल घायल हो गया। जिस नीले बैग में चोरी के गहने भरकर आरोपी ले गए थे, उसी ने पुलिस को उन तक पहुंचा दिया। वहीं प्रवीण संकलेचा की दुकान से 50 लाख के गहने व 5 हजार रुपए चोरी की थी। जांच के दौरान पता चला कि चोर वहां रखे नीले बैग में सामान भरकर बाइक से इतवारी बाजार की ओर भागते हुए देखे गए हैं।हुलिए के आधार पर पुलिस ने जांच शुरू कि तो पता चला कि वह व्यक्ति टिकरापारा में किराये से रहने वाले अशोक नायक के घर में देखा गया था। जो 2 अक्टूबर की सुबह निकल गया। इस पर अशोक नायक को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने बताया कि उसका साला रवि वाघाडे अपने मामा देवराज वर्मा के साथ 30 सितंबर को आए थे। दोनों रात में रेकी करने भी गए थे। इसकी अगली रात चोरी की। फिर छत पर जाकर सामान का बंटवारा किया और बिलासपुर की ओर चले गए। पुलिस धमतरी के कुम्हारपारा में रवि वाघाडे के किराये में मकान में पहुंची तो उसकी पत्नी ने बताया कि देवराज के साथ रायपुर गया है। इस पर साइबर टीम ने मॉनिटिरंग की। पीछा करते हुए टीम रायपुर की ओर बढ़ी तो आरोपी लोकेशन बार-बार बदल देते। इस पर रायपुर- बिलासपुर हाईवे में घेराबंदी की गई। इस दौरान कॉन्स्टेबल मुकेश मिश्रा ने पीछा कर देवराज वर्मा को पकड़ा तो उसने पत्थर से हमला कर भागने का प्रयास करते पकड़ा गया। जबकि अन्य आरोपी कैलाश बैरागी को रायपुर और रवि वाघाडे की पत्नी रोशनी को धमतरी से गिरफ्तार किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.