देश

SEX के बाद की हत्या फिर लगाया सिंदूर, VC पर तांत्रिक पढ़ रहा था मंत्र! बच्चे के लिए 1 हफ्ते में 2 कॉलगर्ल की बलि

ग्वालियर

बच्चे की चाहत में ग्वालियर में नरबलि कांड में पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने एक नहीं बल्कि दो-दो कॉलगर्ल की बलि दी। पहली बलि दुर्गाष्टमी और दूसरी शरद पूर्णिमा को दी गई। इतना ही हत्याकांड के मास्टरमाइंड नीरज परमार ने दोनों को मारने से पहले शारीरिक संबंध भी बनाए। इससे भी ज्यादा हैरान करने वाली बात यह है कि जिस वक्त हत्याएं हो रही थीं, उस वक्त तांत्रिक वीडियो कॉल पर ही मंत्र पढ़ रहा था। पुलिस ने बताया कि आरती कॉलगर्ल की हत्या के आरोप में पकड़े गए आरोपियों ने एक बड़ी गलती कर दी थी। भिंड में मारी गई कॉलगर्ल नीरू का सिम कार्ड तांत्रिक के पास मिला। सबसे बड़ी बेवकूफी यह थी कि वह यह सिम कार्ड अपने मोबाइल में इस्तेमाल कर रहा था लेकिन इसी से सारा राज खुल गया। जिस जगह आरती की हत्या की गई, वहां शराब की बोतल, सिंदूर और कलावा भी मिले हैं।

लावारिस महिला की लाश मिलने से फैली सनसनी…
दरअसल, गुरुवार सुबह हजीरा के IIITM कॉलेज के पास मुरैना रोड पर एक महिला की लाश मिली तो क्षेत्र में सनसनी फैल गई। पुलिस ने जांच शुरु की लेकिन कोई अता पता नहीं चला और ना ही कोई गुमशुदगी की शिकायत आई। महिला के गले पर निशान देख एक बात तो साफ हो गई कि उसकी हत्या हुई है। महिला की पहचान आरती उर्फ लक्ष्मी मिश्रा (40) निवासी हजीरा के रूप में हुई थी। 12 साल पहले ही उसका पति से तलाक हो चुका था। पति ने तलाक की वजह उसका चाल-चलन ठीक न होना बताया था। महिला कुछ समय से किसी ऑटो ड्राइवर के साथ लिव इन में रहने का भी पता लगा। पुलिस जांच कर रही रही थी कि उसके कॉल डिटेल से कई राज खुल गए। पता लगा कि वह एक कॉलगर्ल थी। इसके बाद पुलिस ने को जांच इस एंगल पर मोड़ा।

महिला की दी गई थी बलि…
पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई मिली महिला की लाश कॉलगर्ल थी। उसकी बलि दी गई थी। दरअसल, ममता भदौरिया और बेटू भदौरिया निवासी मोतीझील की शादी को 18 साल हो गए थे। उनके कोई बच्चा नहीं है। बेटू को एक बच्चे की चाह थी। उसने कई हकीम, डॉक्टर और बाबाओं का सहारा लिया, लेकिन घर में किलकारी नहीं गूंजी। इस पर बेटू ने अपनी बहन मीरा राजावत से बात की। उसने अपने दोस्त नीरज परमार को पूरी बात बताई। नीरज ने सभी को बताया कि वह मुरैना सरायछोला निवासी तांत्रिक गिरवर यादव को जानता है। वह यह काम चुटकी में कर सकता है। इसके बाद गिरवर से मुलाकात हुई तो उसने एक जान के बदले एक जान मांगी। मतलब घर में बच्चा चाहिए तो एक बलि देना पड़ेगी। बलि के लिए आइडिया इमरान हाशमी और जैकलीन की मर्डर-2 मूवी से लिया गया। मूवी में एक सीरियल किलर घर बुलाकर वह कॉलगर्ल की हत्या कर देता था। कॉलगर्ल का कोई रिश्तेदार नहीं होता था, इसलिए पुलिस मामलों को सुलझा नहीं पा रही थी। इसी तरह नीरज ने प्लान बनाया।

ऐसे दिया घटना को अंजाम…
बेटू भदौरिया ने कहीं से नंबर लेकर आरती को बुधवार रात मिलने बुलाया। उसे 10 हजार रुपए में बुक किया था। इसके बाद बेटू भदौरिया उसे लेकर मोतीझील पहुंचा। यहां बेटू और नीरज ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उनको हजीरा में रह रहे तांत्रिक को बलि के फोटो दिखाने थे। मोबाइल में फोटो खींचे, लेकिन बाद में पकड़े जाने के डर से डिलीट कर दिए। इसके बाद तय किया कि लाश को जिंदा बनाकर ले जाएंगे और तांत्रिक को दिखाकर वहीं फेंक देंगे। रात 11 बजे नीरज और मीरा बाइक पर आरती की लाश को बीच में बैठाकर हजीरा तांत्रिक के घर जाने के लिए निकले थे। रास्ते में IIITM कॉलेज के पास अचानक बाइक का नियंत्रण बिगड़ा तो बीच में आरती की लाश सड़क पर गिर पड़ी। इस पर दोनों घबरा गए। वहां से कुछ लोग भी निकल रहे थे। इस पर वह बाइक को आगे बढ़ाकर भाग गए।

दूसरे मर्डर की भी खुली पोल…
पुलिस ने मोतीझील के रहने वाले ममता, उसके पति बेटू भदौरिया, ममता की ननद मीरा राजावत, मीरा के लिव इन पार्टनर नीरज परमार और तांत्रिक गिरवर यादव को गिरफ्तार किया। जांच में सामने आया कि ममता और बेटू को शादी के 18 साल बाद भी संतान नहीं हो रही थी। उन्हें तांत्रिक ने नरबलि के लिए कहा था। वहीं उन्होंने कबूल किया कि आरती से पहले उन्होंने 13 अक्टूबर को कॉलगर्ल नीरू की भी हत्या की थी।

SEX के बाद की हत्या और लाश को लगाया सिंदूर…
पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने कबूल किया कि उन्होंने 13 अक्टूबर को पहली बलि नीरू की दी। उस दिन दुर्गाष्टमी थी। मास्टरमाइंड नीरज ने पहले नीरू को शराब पिलाई फिर सेक्स किया। उसके बाद उसका गला घोंट दिया। लेकिन जब आरोपी ने तांत्रिक को नीरू के शराब पीने की बात बताई तो वह भड़क गया। उसने इस बलि को खंडित कर दिया और कोई दूसरी बलि करने की बात कही। क्योंकि पहली लाश की पहचान नहीं हो पाई थी, तो आरोपियों को हत्या करना आसान लगा। दूसरी बलि के लिए उन्होंने आरती उर्फ लक्ष्मी मिश्रा को सांझे में लिया। उसे 10 हजार रुपये का लालच देकर बेटू भदौरिया के घर ले गए। यहां छत पर इसके साथ भी नीरज ने सेक्स किया और फिर गला दबा दिया। उसकी हत्या के बाद जब नीरज लाश को सिंदूर लगा रहा था, उस वक्त तांत्रिक अपने घर से मोबाइल के जरिए मंत्र पढ़ रहा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.