बिलासपुर

CIMS में HOD ने जूनियर डाक्टर को जमकर पीटा, विरोध में धरने पर बैठे

बिलासपुर। CIMS के एक जूनियर डाक्टर की सर्जरी डिपार्टमेंट के HOD ने जमकर पिटाई कर दी। बात यह रही कि जूनियर डाक्टर ने एक मरीज को टीटी का इंजेक्शन लगाने के बाद पर्ची में उसका उल्लेख करना भूल गए। जिससे गुस्साए HOD ने आपातकालीन में पहुंच कर डाक्टर पर तमाचे की बौछार कर दी। इस घटना से सभी जूनियर डाक्टर ने मिलकर एचओडी के खिलाफ हल्ला बोलते हुए इलाज छोड़कर धरना पर बैठ गए, जिससे दो घंटे तक उपचार प्रभावित रहा।

बुधवार की सुबह लगभग 11 बजे एक मरीज आपातकालीन में पहुंचा। तब जूनियर डाक्टर रोहित मोहराणा ने उस मरीज की जांच की और बताया कि इलाज सर्जरी डिपार्टमेंट में होगा। इसके बाद डाक्टर रोहित ने उसे टीटी का इंजेक्शन लगाया। लेकिन इसका जिक्र पर्ची में किए बिना ही मरीज को सर्जरी डिपार्टमेंट भेज दिया। जहां पर डिपार्टमेंट के एचओडी डाक्टर केएन चौधरी ने मरीज की जांच की।

साथ ही डाक्टर रोहित के द्वारा भेजे गई पर्ची पर केस हिस्ट्री देखी। जहां मरीज ने टीटी का इंजेक्शन लगने की जानकारी दी। लेकिन यह बात मरीज की पर्ची में नहीं लिखा था। इस बात को लेकर एचओडी डाक्टर चौधरी भड़क गए और अपने चैंबर से उठकर सीधे आपातकालीन में पहुंच गए और डाक्टर रोहित को लापरवाही करने की बात को लेकर डांटने लगे।

डाक्टर रोहित ने इस बात का विरोध किया। तब डाक्टर चौधरी ने गुस्से में आकर रोहित को तमाचा जड़ दिया। इसके बाद भी नहीं रुके और उनकी पिटाई करते रहे। कुछ देर बाद अन्य स्टाफ ने रोका। जैसे ही यह बात सभी डिपार्टमेंट के जूनियर डाक्टर को पता चली, वैसे ही सभी आपातकालीन पहुंच गए और इलाज छोड़कर HOD के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर धरना पर बैठ गए, जिसकी वजह से दो घन्टे तक उपचार प्रभावित रहा। इसके बाद डीन डाक्टर केके सहारे के हस्तक्षेप के बाद व कार्रवाई का आश्वासन देकर जूनियर डाक्टरों का शांत कराकर वापस मरीजों के इलाज के लिए भेजा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.