छत्तीसगढ़

काफिले में कर्नल की पत्नी-बेटा भी हैं, नहीं था पता.. MNPF ने मणिपुर हमले की जिम्मेदारी लेकर दिया बयान

नई दिल्ली

मणिपुर में आतंकी हमले की जिम्मेदारी (MNPF) ने ली है। इस आतंकी हमले में सात लोगों ने अपनी जान गंवा दी। एक कर्नल समेत चार जवान शहीद हो गए। वहीं कर्नल के परिवार के दो सदस्य भी इस हमले का शिकार हुए। इस आतंकी हमले से पूरा देश आक्रोशित है। दहशतगर्दों के खिलाफ कड़े एक्शन की बात हो रही है।MNPF ने हमले की जिम्मेदारी लेने के अलावा एक नोट भी जारी कर दिया गया है। उस नोट में घटना के बारे में विस्तार से बताया गया है। ये भी कहा गया है कि हमला करने वाले लोग इस बात से अंजान थे कि काफिले में कर्नल की पत्नी और बच्चा भी मौजूद थे। ऐसे में नोट के अंदर जवानों को ही नसीहत दे दी गई है कि वे संवेदनशील इलाकों में परिवार को साथ लेकर ना आए। कहा गया है कि जिन इलाकों को सरकार ने भी सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील माना है, वहां पर परिवार का रहना ठीक नहीं है। अब जानकारी के लिए बता दें कि ये संयुक्त बयान उप प्रचार सचिव रोबेन खुमान और थॉमस नुमाई द्वारा दिया गया है।उनकी तरफ से इस हमले की पूरी जिम्मेदारी ले ली गई है। अब सरकार कब और किस तरह से इस संगठन के खिलाफ कार्रवाई करती है, ये आने वाले दिनों में साफ हो जाएगा। वैसे मणिपुर सीएम एन बीरेन सिंह पहले ही कह चुके हैं कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा और कठोर कार्रवाई की जाएगी। वहीं जानकारी के मुताबिक नक्सली हमले में शहीद विप्लव ओर उनकी पत्नी, बच्चे का शव कल रविवार शाम तक रायगढ़ पहुंचेगा। शव हवाई मार्ग से रायपुर एयरपोर्ट पहुंचेगा, जिसके बाद शव रायपुर से सेना के हेलीकॉप्टर से जिन्दल हवाई पट्टी पर उतरेगा। जहां शव को रामलीला मैदान में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। उसके बाद अंतिम संस्कार क्रिया को पूर्ण किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ के रहने वाले थे शहीद कर्नल विप्लव त्रिपाठी, पत्नी और 5 साल के बेटे की भी मौत
मणिपुर के खूबा में हुए आतंकी हमले में रायगढ़ के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी शहीद हो गए हैं। उनकी पत्नी अनुजा त्रिपाठी और 5 साल के बेटे की भी मौत हो गई। आतंकियों ने एंबुश लगाकर सेना के काफिले पर हमला किया। कमांडिंग ऑफिसर की गाड़ी को निशाना बनाया गया है। इस हमले में कमांडिंग ऑफिसर सहित 4 जवान शहीद हो गए, जबकि CO कर्नल विप्लव त्रिपाठी की पत्नी और पांच साल के बच्चे की भी मौत हो गई। मणिपुर के चुराचांदपुर जिले के सिंघाट में यह हमला हुआ। यहां असम राइफल्स के कमांडिंग आफिसर के काफिले पर आतंकियों ने हमला किया। काफिले में कमांडिंग ऑफिसर के परिवार के सदस्य और क्विक एक्शन टीम के सदस्य मौजूद थे। आतंकी हमले में सीओ, क्विक एक्शन टीम के तीन जवान और सीओ के परिवार के दो सदस्यों की मौत हो गई। हमले के पीछे मणिपुर की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी का हाथ बताया जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.