जांजगीर चांपा

बलौदा तहसीलदार को कारण बताओ नोटिस….

  • राजस्व न्यायालय के एक साल से अधिक लंबित प्रकरणों का 30 नवम्बर तक निराकरण नहीं होने पर की जाएगी वेतन वृद्धि रोकने की कार्रवाई – कलेक्टर,
  • जिला स्तरीय विभागीय अधिकारियों की साप्ताहिक समीक्षा बैठक

जांजगीर-चांपा

कलेक्टर श्री जितेंद्र कुमार शुक्ला ने आज जिला कार्यालय में समय सीमा बैठक में राज्य सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन की प्रगति की समीक्षा करते हुए राजस्व अधिकारियों से कहा कि किसी भी राजस्व न्यायालय में 30 नवम्बर तक एक साल से अधिक पुराने प्रकरण लंबित नही होने चाहिए। उन्होंने कहा कि राजस्व न्यायालयों में लंबित प्रकरण पाए जाने पर संबंधित राजस्व अधिकारी के खिलाफ वेतन वृद्धि रोकने की कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर ने बलौदा तहसील कार्यालय में 2 वर्ष से अधिक 33 प्रकरण लंबित पाये जाने पर संबंधित प्रभारी तहसीलदार को कारण बताओ सूचना जारी करने के निर्देश दिये साथ ही अवकाश पर गये बलौदा तहसीलदार के अवकाश निरस्त करने के लिए एडीएम को निर्देश दिया।
कलेक्टर ने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तैयारी की समीक्षा करते हुए कहा कि सभी उपार्जन केन्द्रों में खरीदी से संबंधित मूलभूत तैयारी सुनिश्चित किया जाय। जिला स्तरीय अधिकारियों को गौठानो के नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कलेक्टर ने धान खरीदी केन्द्रों के नोडल अधिकारियों से कहा कि वे धान खरीदी शुरू होने के पूर्व उपार्जन केन्द्र की तैयारी के संबंध में रिपोर्ट दें और धान खरीदी प्रारंभ होने पर बारदानों की उपलब्धता, किसानों का भुगतान, पहुंच मार्ग, खरीदे गए धान के बोरो की सिलाई, स्टेकिंग आदि की रिपोर्ट नियमित रूप से जिला कार्यालय में प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि धान के अवैध परिवहन और विक्रय पर निगरानी रखने के लिए जिला, ब्लाक और तहसील स्तर पर निगरानी दल का गठन किया गया है। इन दलो में राजस्व, सहकारिता, मंडी के कर्मचारियो को शामिल किया गया है। जो सतत निगरानी रखकर धान के अवैध परिवहन, विक्रय, बिचौलियो और कोचिया पर कार्यवाही करेंगे। साथ ही संवेदशील 50 उपार्जन केन्द्रों पर निगरानी के लिए व्यवस्था की जा रही है।


कलेक्टर ने यातायात और सड़क मरम्मत एवं दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए चर्चा करते हुए कहा कि सभी सड़कों की मरम्मत का कार्य प्रारंभ हो गया है। कलेक्टर ने कहा कि सभी एसडीएम निर्माण विभागों से समन्वय कर मरम्मत कार्य शीघ्र पूरा करवाएं। उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप के गांवों और नगरीय क्षेत्र के संबंधित अधिकारी मवेशियों को सड़क से दूर करने के लिए कार्ययोजना बनाएं।
बैठक में जिला पंचायत सीईओ श्री गजेन्द्र सिंह ठाकुर, एडीएम श्रीमती लीना कोसम सहित सभी एसडीएम व विभिन्न विभागो के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.