बिलासपुर

रणजी क्रिकेटर के घर पड़ोसियों का हमला, क्रिकेटर की पत्नी, गर्भवती महिला और माता-पिता पर राड से हमला

बिलासपुर

जिला मुख्यालय में रणजी क्रिकेटर अमित मिश्रा के घर पड़ोसियों ने जमकर उत्पात मचाया। रॉड, फावड़ा और डंडे लेकर घुसे पड़ोसी युवकों ने अमित मिश्रा के माता-पिता, छोटे भाई, उसकी गर्भवती पत्नी और अमित की पत्नी पर हमला किया। सभी को गंभीर हालत में अपोलो अस्पताल और CIMS में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि सोमवार की सुबह जब पड़ोसियों ने हमला किया, तब अमित अहमदाबाद में थे। वहां रेलवे की रणजी टीम का कैंप चल रहा है। अमित की पत्नी ने उन्हें फोन पर हमले की जानकारी दी। तब अमित कैंप छोड़कर तत्काल बिलासपुर के लिए रवाना हो गए और देर रात घर पहुंच गए। इस मामले में एक बार फिर से सरकंडा थाना पुलिस की कार्यप्रणाली सवालों में है। पुलिस ने सिर्फ साधारण मारपीट की धाराओं में FIR दर्ज की। हालांकि बाद में हत्या के प्रयास में मामला दर्ज करने की बात कही है।

 घर में घुसकर की मारपीट घटना के बारे में मिले विवरण के अनुसार सरकंडा के कृष्णा विहार कॉलोनी निवासी क्रिकेट प्लेयर अमित मिश्रा के पड़ोसी गंगाधर मिश्रा अपने घर की पुताई करा रहे हैं। सोमवार की8 सुबह गंगाधर मिश्रा उनके घर पहुंचे। इस दौरान उसने अमित के पिता चंद्रिका प्रसाद से कहा कि उनके घर की तरफ की दीवार पर पुताई कराना है। इस पर चंद्रिका प्रसाद ने पूजा, पाठ करने और घर का कामकाज निपटाने के बाद पुताई कराने को कहा। बस इतनी सी बात से नाराज होकर गंगाधर मिश्रा, उनका भाई, दो बेटे और अन्य दोस्त उनके घर में घुस गए और गाली-गलौज करने लगे। हमले में चंद्रिका प्रसाद के साथ ही शशि, प्रतिमा, हितेश, मंजू, अल्का गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें इलाज के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर, चंद्रिका प्रसाद के घर काम से आए तोरवा के शंकर नगर निवासी राजेश तिवारी भी इस हमले में घायल हो गए। सरकंडा पुलिस पर फिर सवाल पड़ोसियों के इस हमले में अमित मिश्रा के घर की गर्भवती महिला के साथ ही परिवार के सदस्य गंभीर रूप से घायल हैं। इस घटना की शिकायत पर पुलिस न तो मामले की जांच करने पहुंची और न ही घायलों का हाल जाना। TI परिवेश तिवारी ने कहा कि हमलावरों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया गया है। जांच के दौरान इस प्रकरण में धारा 307 जोड़कर कार्रवाई की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.