रायगढ़

मजदूर कार्ड बनवाने का वादा कर लोगों से लिया फिंगर प्रिंट, बॉयफ्रेंड के साथ मिलकर युवती ने खाते से निकाले लाखों रुपए

रायगढ़

रायगढ़ जिले में एक टीचर के बेटी ठग बन गई। उनसे अपने प्रेमी के साथ मिलकर पहले तो लोगों को मजदूर कार्ड बनवाने का वादा किया। फिर उनके फ्रिंगर प्रिंट ले लिए। इसके बाद अलग-अलग लोगों के खाते से करीब 3 लाख रुपए पार कर दिए और भाग निकले। इस मामले में जब शिकायत हुई तो पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। मामला चक्रधरनगर थाना क्षेत्र का है। जानकारी के मुताबिक, गोवर्धनपुर के कियोस्क शाखा में कई लोग पैसे निकालने के लिए आते थे। इन्हीं में कई लोगों को मजदूर कार्ड बनवाने की आवश्यकता थी। इसी बात का फायदा उठाकर दिसंबर महीने में युवक-युवती ने उन्हें झांसे में लिया था। दोनों ने मिलकर दावा किया हम आसानी से आपका मजदूर कार्ड बनवा देंगे। मगर उसके लिए आपको कुछ दस्तावेज देना होग। जैसे- आधार कार्ड, पासबुक। साथ ही आपको फिंगर प्रिंट भी देना होग। यह सुनकर लोग उनके झांसे में आ गए थे और उन्होंने अपने दस्तावेज के साथ फिंगर प्रिंट भी दे दिया था। बताया गया कि सब कुछ देने के बाद भी इनका मजदूर कार्ड तो बना नहीं। लोगों ने बताया कि उन्होंने जब इनसे संपर्क किया तो दोनों से संपर्क भी नहीं हो सका था। इतना ही नहीं ये लोग जब अपने खाते में पैसा निकालने पहुंचे तो दोमनिका कुजूर के खाते से 20 हजार, रत्ना डनसेना के खाते से 1,19,300 रुपए और अंजली के खाते से 1,44,859 रुपए गायब हो चुके थे। तब जाकर इन्हें एहसास हुआ कि इनके साथ ठगी हुई है। इसके बाद इन्होंने मिलकर कुछ दिन पहले ही पुलिस से शिकायत की थी। शिकायत के बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी थी। पुलिस ने पीड़ितों से आरोपियों के बारे में पूछताछ की, उनकी पहचान जानी, फिर उनके ठिकानों में दबिश भी दी। लेकिन वो दोनों गायब हो चुके थे। इस बीच पुलिस को पता चला कि दोनों केवड़ाबाड़ी बस स्टैंड के पास हैं। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर दबिश दी और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में दोनों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम पुष्पेन्द्र कुमार(24) और भारती महिलांगे(20) बताया है। पुष्पेंद्र के पिता ट्रेलर चलाने का काम करते हैं। जबकि भारती के पिता टीचर हैं। आरोपियों ने बताया कि दोनों एक दूसरों को पिछले दो सालों से जानते थे। दोनों एक दूसरे को पसंद भी करते थे। दोनों ने यह भी बताया कि हमने यूट्यूब से बॉयो मैट्रिक डिवाइस पर फिंगर प्रिंट लेना और उसका गलत इस्तेमाल कैसे करना है, यह सीखा था। आरोपी जांजगीर जिले के डभरा इलाके के रहने वाले हैं।आरोपियों ने बताया कि उन्होंने लोगों से दस्तावेज और फिंगर प्रिंट बॉयो मैट्रिक डिवाइस पर ग्लू/फेवीकोल लगाकर लेता थाे। बाद में उस फिंगर प्रिंट को अपने अंगूठे पर लगाकर कियोस्क शाखा से पैसे निकाल लिया करते थे। अब पुलिस ने दोनों से एक लाख 66 हजार रुपए नकद बरामद किया है। साथ ही पेन कार्ड, एटीएम कार्ड और मोबाइल जब्त किया गया है। पुलिस ने बताया कि दोनों के खिलाफ जांजगीर के डभरा थाने में भी इसी तरह से धोखाधड़ी करन की शिकायत दर्ज है। हम और भी थानों से संपर्क कर जानकारी जुटा रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.