छत्तीसगढ़

4 दिन पहले हुई महिला की हत्या मामले में पड़ोसी गिरफ्तार, टोनही के शक में मारकर जला दिया

​​​​​​​कवर्धा

4 दिन पहले हुई महिला की हत्या मामले में पुलिस ने उसके ही पड़ोसी को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपी को शक था कि विधवा महिला जादू-टोना करती है। इसके चलते उसकी पत्नी बीमार रहती है। इसी शक में वह देर रात को महिला के निर्माणाधीन मकान में घुस गया। बरामदे में सो रही महिला के सिर पर डंडे से वार कर किया और फिर चारपाई में आग लगा कर जला दिया। महिला के सिर पर डंडे से वार कर उसकी हत्या की गई है। इसके बाद शव को जलाया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए IG बीएन मीणा ने पुलिस के साथ ही साइबर टीम को मामले की जांच के निर्देश दिए। इसके लिए विशेष टीम बनाई गई। टीम जांच कर रही थी तभी पड़ोसी परमेश्वर परस्ते के बारे में पता चला। घटना के दिन से वह गायब था। पुलिस ने उसकी जानकारी जुटाई तो पता चला कि वह अपने गांव पिपरहा चला गया है। मामला कुकदूर थाना क्षेत्र का है। जानकारी के मुताबिक, ग्राम दैहानटोना निवासी सखीना मेरावी (45) का 10 मई को 100 फीसदी जली हुई हालत में शव मिला था। आसपास के लोगों ने मकान से आग की लपटें निकलती देखी तो पुलिस को सूचना दी। इसके बाद फायर ब्रिगेड पहुंची तो दरवाजा बाहर से बंद था। आग पर काबू होने के बाद पुलिस अंदर घुसी तो देखा कि सारा सामान जलकर राख हो चुका था। वहीं बरामदे में महिला का शव पड़ा था। वह अकेले ही रहती थी। संदेह के आधार पर पुलिस ने उसे उठा लिया। पूछताछ में परमेश्वर ने पुलिस को बताया कि एक साल पहले उसकी शादी दैहानटोला निवासी लड़की से हुई थी। शादी के कुछ समय बाद ही पत्नी की तबीयत खराब रहने लगी। इस पर उसने अंध विश्वास के चलते कई जगह झाड़-फूंक कराई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। कोई सुधार नहीं होने से परमेश्वर अपनी पत्नी को लेकर ससुराल आ गया और यहां सखीना बाई के मकान के पास ही किराये से रहने लगा। विधवा महिला के अकेले रहने चलते परमेश्वर को शक हुआ कि सखीना जादू-टोना करती है। इसी के चलते उसका दांपत्य जीवन बर्बाद हो गया है। परमेश्वर ने पुलिस को बताया कि वह 9 मई को एक परिचित की शादी में गया था। वहां सखीना बाई को देखा तो गुस्से से भर गया। इसके बाद सखीना की हत्या करने की नीयत से रात तक इंतजार करता रहा। देर रात सखीना के निर्माणाीधन मकान की खिड़की से परमेश्वर अंदर दाखिल हुआ। परमेश्वर ने बताया कि सखीना बाई अंदर सोई हुई थी। वहीं बरामदे में बांस का टुकड़ा पड़ा थाा। उसने उसी से सखीना बाई के सिर पर वार कर हत्या कर दी। इसके बाद घर की तलाशी ली। जहां से उसे 800 रुपए मिले। इन रुपयों को लेने के बाद उसने चारपाई के नीचे आग लगा दी। फिर वहां से भाग निकला। जिसके चलते सखीना बाई का शव उसी में जलकर खाक हो गया। इस खुलासे के बाद पुलिस टीम को पुरस्कृत किए जाने की घोषणा की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.