छत्तीसगढ़

बस्तर के आठवीं पास युवा भी बन सकेंगे सीआरपीएफ जवान, केंद्रीय कैबिनेट ने नियमों में बदलाव को दी मंजूरी

रायपुर

छत्‍तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग के बीजापुर, दंतेवाड़ा और सुकमा जिले के आठवीं पास युवा भी अब केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) में भर्ती हो सकेंगे। इसके लिए केंद्रीय कैबिनेट ने भर्ती के नियमों में बदलाव करते हुए युवाओं को शैक्षणिक योग्यता में छूट देने का फैसला किया है। केंद्रीय कैबिनेट की बीते बुधवार को हुई बैठक में लिए गए इस फैसले से करीब छह वर्ष बाद सीआरपीएफ में बस्तरिया बटालियन के गठन की उम्मीद फिर एक बार बढ़ गई है। तीनों जिलों से करीब 400 आदिवासी युवाओं की भर्ती होगी। सीआरपीएफ के अफसरों ने बताया कि 2016-17 में सीआरपीएफ ने बस्तर बटालियन के गठन की कोशिश गई थी, लेकिन शैक्षणिक योग्यता में 10वीं पास की अनिवार्यता के कारण भर्ती नहीं हो पा रही है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार को भर्ती में नियमों में बदलाव का प्रस्ताव भेजा गया था, जिसे अब मंजूर कर लिया गया है। अफसरों ने बताया कि भर्ती के बाद प्रशिक्षण दौरान युवाओं को आगे की शिक्षा दी जाएगी। 10वीं पास की निर्धारित न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता प्राप्त करने के बाद ही उन्हें सेवा में स्थायी पद दिया जाएगा। ट्रेनिंग के दौरान अध्ययन सामग्री, किताबें व कोचिंग सहायता सहित हर संभव मदद फोर्स की तरफ से दी जाएगी। निर्धारित शैक्षणिक योग्यता हासिल करने में नए प्रशिक्षुओं की सुविधा के लिए, यदि आवश्यक हो तो अवधि में विस्तार भी किया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.