छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष बनाए गए अरुण साव, विष्णुदेव साय पद से हटाए गए

विष्णु देव साय पार्टी के आदिवासी चेरहे के तौर पर प्रदेश अध्यक्ष का जिम्मा संभाल रहे थे। आज संयोग है कि विश्व आदिवासी दिवस के दिन उन्हें पद से हटा दिया गया। बिलासपुर के लोकप्रिय सांसद अरुण साव जी को छत्तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया। साव के नेतृत्व में नई ऊर्जा और उत्साह के साथ हम सभी पार्टी कार्यकर्ता पूरे समर्पण भाव से कार्य करेंगे, और छत्तीसगढ़ में फिर से कमल खिलाएंगे। साव को जिम्मेदारी दिए जाने को लेकर माना जा रहा है कि कांग्रेस के हावी होते छत्तीसगढ़ियावाद का जवाब भाजपा लेकर आई है। सांसद साव साहू कम्यूनिटी से ताल्लुख रखते हैं। लंबे वक्त से प्रदेश में उन्हें बड़ा जिम्मा दिए जाने की चर्चा थी ही। तीन दिन पहले अचानक, अब तक प्रदेश अध्यक्ष रहे विष्णु देव साय को दिल्ली से बुलावा आया था, तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि कुछ बड़ा हाेने वाला है। अब साव की अगुवाई में ही भाजपा 2023 का विधानसभा चुनाव लड़ेगी ऐसी उम्मीद जताई जा रही है। अरुण साव का जन्म 25 नवंबर 1968 को मुंगेली के लोहड़िया गांव में जन्मे तथा कबीर वार्ड मुंगेली में रह कर पले बढ़े। बीकाम एसएनजी कालेज मुंगेली से और एलएलबी बिलासपुर से किया। 80 के दशक में मुंगेली के मंडल अध्यक्ष तथा 1977 से 2000 तक जरहागांव विधानसभा क्षेत्र के चुनाव संचालक रहे पिता अभयराम साव से घुटी में संघ और जनसंघ के संस्कार मिले। 1990 से 95 तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की मुंगेली तहसील इकाई के अध्यक्ष, जिला संयोजक से प्रांतीय सह मंत्री और राष्ट्रीय कार्य समिति सदस्य बने।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.