जांजगीर चांपा

2 पटवारियों निलंबित, कलेक्टर ने जारी किया आदेश

जांजगीर-चांपा

भ्रष्टाचार के आरोप में 2 पटवारियों को निलंबित कर दिया गया है। कलेक्टर कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, तहसील ऑफिस जैजैपुर ने प्रतिवेदन में सरकारी भूमि में कूटरचना और शासकीय रिकॉर्ड में गड़बड़ी की बात लिखी थी। जिसके बाद पटवारी संतोष कहरा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर अनुविभागीय अधिकारी (रा.) सक्ती को जांच अधिकारी नियुक्त कर विभागीय जांच का जिम्मा सौंपा गया है। पटवारी विनोद डाहिरे को भी सस्पेंड कर दिया गया है। निलंबन अवधि में दोनों पटवारियों का मुख्यालय तहसील कार्यालय सक्ती किया गया है। इस अवधि में नियमानुसार दोनों पटवारियों को जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी।

आदेश की कॉपी।

शासकीय भूमि में कूटरचना और रिकॉर्ड में छेड़छाड़ के आरोप में कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने इन पर निलंबन की कार्रवाई की। जैजैपुर तहसील के ग्राम झालरौंदा के पटवारी संतोष कहरा (प.ह.नं- 03) और ग्राम कोटेतरा के पटवारी विनोद डाहिरे (प.ह.नं- 08) के खिलाफ प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर कार्रवाई हुई।इन पटवारियों ने अपने हल्का नंबर क्षेत्र की शासकीय जमीनों को पैसों के लेनदेन के बाद लोगों की निजी भूमि में सम्मिलित कर दिया था। इसकी शिकायत तहसीलदार, कलेक्टर और राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल तक से की गई थी। इसके बाद दोनों के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए थे। जांच में आरोप सही पाए जाने पर दोनों पटवारियों को निलंबित किया गया है, साथ ही SDM सक्ती रैना जमील को विभागीय जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

पटवारी संतोष कहरा पर ACB ने भी की थी कार्रवाई

पटवारी संतोष कहरा पर पहले भी एंटी करप्शन ब्यूरो की कार्रवाई हुई थी। उस पर जमीन का रिकॉर्ड दुरुस्त करने के नाम पर रिश्वत लेने का आरोप था। उसे एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) बिलासपुर की टीम ने जांजगीर के तहसील कार्यालय में रंगे हाथों रिश्वत लेते हुए पकड़ा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.