जांजगीर चांपा

अधेड़ ने फांसी लगाकर आत्महत्या की, खुदकुशी कारण स्पष्ट नहीं

​​​​​​​जांजगीर-चांपा

पुटपूरा गांव में सोमवार को एक अधेड़ ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। अधेड़ अपनी पत्नी के साथ मजदूरी करता था। उसने काम पर जाने की बात कहकर चलने को कहा और फिर पत्नी को भेज खुद जान दे दी। अभी तक आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं है। मामला जांजगीर थाना क्षेत्र का है। जानकारी के मुताबिक, पुटपूरा गांव निवासी दिलहरण यादव (52) अपनी पत्नी के साथ खेतों में मजदूरी करता था। अधेड़ की 5 बेटियां हैं। इनमें से 2 की शादी हो गई है। रोज की तरह वह सोमवार को भी दंपती मजदूरी पर जाने के लिए तैयार हुए। इस दौरान दिलहरण ने अपनी पत्नी से कहा कि तुम आगे चलो मैं आ रहा हूं। इसके बाद उसकी पत्नी काम पर चली गई और दिलहराण घर लौट आया। इस दौरान उसकी बेटियां भी बाहर थीं। कुछ देर बाद जब बेटी घर पहुंची तो दिलहरण का शव पंखे से लटका देखा। इस पर बेटी ने आसपास के लोगों को इसकी जानकारी दी। सूचना मिलने पर पुलिस भी पहुंच गई और शव को नीचे उतरवा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। आसपास के लोगों ने बताया कि दिलहरण की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। इसके चलते वह मानसिक रूप से परेशान रहता था। दिलहरण के पास पहले खेती-बाड़ी थी, लेकिन देखते ही देखते सब कुछ बिक गया। अब वह परिवार चलाने के लिए खुद दूसरों के खेत में मजदूरी करने लगा था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.