छत्तीसगढ़

करैत ने काट लिया तो युवक ने सांप को ही बना लिया बंधक, पकड़कर डिब्बे में किया बंद

अंबिकापुर

सांप को शर्मीला जीव भी कहा जाता है, जो काटने के बाद भागने की कोशिस करता है। लेकिन तब क्या हो जब काटने वाले ने उसे डिब्बे में कैद कर लिआ हो। जी हां एक ऐसा ही मामला सामने आया है। सरगुजा में शनिवार की देर रात एक युवक को जहरीले सांप ने काट लिया, तो उसके परिवार ने गुस्से में आकर उसे डिब्बे में बंद कर दिया। युवक और उसका परिवार सांप को लेकर ही अस्पताल में इलाज कराने पहुंचा। फिलहाल इलाज के बाद उसकी हालत स्थिर है। वहीं परिवार ने अब भी सांप को बंधक बनाकर रखा हुआ है। जिसमे सांप के काटने के बाद युवक ने उसे ढूंड़ कर डिब्बे में बंद कर लिया। युवक ने सांप को ना सिर्फ उस बंद किया जब उसनें काटा बल्कि वह सांप को उस अस्पताल भी ले गया जहां उसका ईलाज कराना था। क्योंकि आस पास के लोगो का मानना था कि यदि सांप दूर चला गया तो व्यक्ति की मृत्यु हो जाएगी।

मामला अंबिकापुर के लखनपुर के कुन्नी का है जहां का युवक रहने वाला है। युवक को सांप ने सोते वक्त काटा लिया। सांप के काटते ही युवक ने शोरकर गांव के कुछ लोगो को बुलाकर खोजकरवाई तो सांप पकड़ा गया। लोगो ने कहा कि ये तो ठीक कि आपने जल्दी बता दिया नही तो जान जानी तय थी। बाद में युवक अस्पताल गया वहां भी युवक ने सांप को छोड़ा नहीं था। करैत भारत टॉप पांच जहरीले सांपो में से एक है। उसी ने युवक को काटा था। सांप एक जहरीला रेंगनेवाला जंतु हैं, जिसके काटने पर यदि सही समय पर इलाज ना कराया जा तो व्यक्ति की मृत्यु लगभग तय है।

पीड़ित के घर वालो का मानना है कि जब तक इलाज पूरा नही हो जाता तब तक वे सांप को बाहर नहीं छोड़ेगे। घर वालो की मानें तो सांप के दूर जाते ही व्यक्ति के प्रांण चले जाएंगे। इस वजह से पूरी सुरक्षा के साथ सांप को बंदी बना कर रखा गया है। घटना लखनपुर थाना क्षेत्र के कुन्नी का है, जहां मुरचंद और उसका परिवार बीती रात जमीन पर सो रहा था। अचानक मुरचंद को कुछ काटने का अहसास हुआ। वो आनन-फानन में उठा और देखा तो उसे वहीं पर करैत सांप बैठा दिखाई दिया। वो तुरंत समझ गया कि उसे सांप ने काट लिया है। इसी बीच परिवार वाले भी जाग गए। उन्होंने तुरंत जहरीले करैत सांप को पकड़कर डिब्बे में डाल दिया और मुरचंद को लेकर मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंच गए।

सांप को बंधक बनाने के पीछे भी परिवार वालों का तर्क है। पीड़ित के भाई ने कहा कि अगर किसी इंसान को सांप ने काट लिया है, तो जितनी तेजी से वो भाग जाता है, उतनी ही तेजी से सांप का जहर उस इंसान के शरीर में फैल जाता है। इसलिए जब उसका भाई ठीक हो जाएगा, तब वे सांप को रिहा कर देंगे। वहीं जैसे ही आसपास के लोगों को करैत सांप के बंधक बनाने की खबर मिली, वे उसे देखने के लिए अस्पताल पहुंच रहे हैं। दरअसल अभी भी लोगों के मन में सांप को लेकर कई भ्रांतियां हैं। इसे दूर करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम भी चलाए जाते हैं, लेकिन फिर भी अंधविश्वास दूर नहीं हो सका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.