देश

केंद्र का फैसला: मेडिकल कोर्सेस में OBC कैंडिडेट्स को 27% और आर्थिक रूप से पिछड़े कैंडिडेट्स को 10% आरक्षण मिलेगा

नई दिल्ली

चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में केंद्र सरकार ने गुरुवार को ऐतिहासिक फैसला किया है। पिछड़ी जातियों (OBC) को 27% और आर्थिक रूप से कमजोर कैंडिडेट्स को 10% आरक्षण दिया जाएगा। फैसला 2021-22 के सेशन से लागू होगा। हर साल ऑल इंडिया कोटा स्कीम (AIQ) के तहत MBBS, MS, BDS, MDS, डेंटल, मेडिकल और डिप्लोमा में 5,550 कैंडिडेट्स को इसका फायदा मिलेगा।

इसे भी पढ़े- नशे में धुत लड़की सड़क किनारे गिरी हुई मिली, पुलिस ने पहुंचाया अस्पताल, CCTV कैमरों की जांच कर रही पुलिस  

PM नरेंद्र मोदी ने इस संबंध में 26 जुलाई को बैठक की थी और वे पहले भी इन वर्गों को आरक्षण दिए जाने की बात कह चुके थे। 26 जुलाई को हुई मीटिंग के 3 दिन बाद सरकार ने ये फैसला ले लिया है। इस बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया के जरिए जानकारी दी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि देश में पिछड़े और कमजोर आय वर्ग के उत्थान के लिए उन्हें आरक्षण देने को सरकार प्रतिबद्ध है।

इसे भी पढ़े- ED जल्द दर्ज करेगी FIR…निलंबित ADG जीपी सिंह के खिलाफ जांच में उजागर हो सकता बड़ा फर्जीवाड़ा

सरकार के इस फैसले के बाद एमबीबीएस में करीब 1,500 ओबीसी कैंडिडेट्स और पीजी में 2,500 ओबीसी कैंडिडेट्स को हर साल इस आरक्षण का लाभ मिलेगा। इसके अलावा एमबीबीएस में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के 550 और पोस्ट ग्रेजुएशन में करीब 1,000 कैंडिडेट हर साल इस आरक्षण से लाभान्वित होंगे।

इसे भी पढ़े- नशे में धुत लड़की सड़क किनारे गिरी हुई मिली, पुलिस ने पहुंचाया अस्पताल, CCTV कैमरों की जांच कर रही पुलिस  

Related Articles