रायपुर

लापता मुस्तफा का नहीं मिला कोई सुराग, बच्‍चे की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा, मां बोली- छह दिन हो गए इंतजार के, कोई खबर तो दे मेरे लाल की

रायपुर

जीनत की आंखें अपने ढाई साल के लाडले गुलाम मुस्तफा के इंतजार में पथरा-सी गईं हैं। वे हर किसी को इसी उम्मीद भरी निगाहों से देखती हैं कि वह उसे कहीं से भी ढूंढकर लाएगा और उनकी गोद में बैठा देगा। अब्बू मोहम्मद फिरोज को तो न रोते बन रहा है, न ही संभलते। खुद टूट जाएं तो जीनत और तीन अन्य बच्चों को कौन संभालेगा। छह दिन हो गए हैं जिगर के टुकड़े को लापता हुए। टिकरापारा पुलिस काफी हाथ-पैर मार रही है, लेकिन उसके हाथ अब तक कुछ लगा नहीं है। टिकरापारा थाना क्षेत्र की चौरसिया कालोनी मस्जिद के पास रहते हैं मोहम्मद फिरोज। जब से लाडला लापता हुआ है, सारा समय थाने और शहर का चक्कर काटने में ही बीत रहा है। सोमवार को एएसपी दफ्तर पहुंचा यह दंपति बार-बार यही गिड़गिड़ाता रहा कि चाहे कहीं से भी हो, उनके लाडले को ढूंढकर ले आएं। बस स्टैंड हो या रेलवे स्टेशन, यहां तक की शहर की सड़कों के किनारे भी यह दंपति मुस्तफा की तस्वीर इन्हीं उम्मीदों के साथ चस्पा कर रहा है कि कोई तो उनके लाल का शुभ संदेश दे जाएगा। कहने को तो फिरोज ट्रक चालक हैं, लेकिन बेटे की सूचना देने वाले 50 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की है। अम्मी जीनत बीते बुधवार की उस रात को याद कर फूट-फूटकर रोने लगती हैं। इस समय फिरोज को यह नहीं सूझता कि वे आखिर उसे किस तरह चुप कराएं, क्योंकि केवल दिलासा देने के उनके पास अभी कुछ है भी तो नहीं। लेकिन इस दंपति ने उम्मीदें नहीं खोई हैं। उन्हें पूरा यकीन है कि एक न एक दिन मुस्तफा उन्हें जरूर मिल जाएगा। अम्मी की गोद में बैठकर बदमाशियां करेगा और अब्बू को घोड़ा बनाकर पीठ पर चढ़ बैठेगा। बीते बुधवार की रात मुस्तफा को पड़ोस की महिला ने उसके घर लाकर छोड़ा था। वह वहां खेलने के लिए गया था। घर में अम्मी को न देखकर वह उसे ढूंढने निकला। इसके बाद से वह लापता है। घर के पास ही एक नाला बहता है। उसमें बह जाने का संदेह भी किया जा रहा है। वहीं घटना को अपहरण की दृष्टि से भी देखा जा रहा है। पुरानी बस्ती सीएसपी मनोज ध्रुव ने कहा कि मासूम की तलाश में पुलिस लगातार जुटी हुई है। हर स्तर पर जांच की जा रही है। सौ से ज्यादा स्थानों के सीसीटीवी कैमरे खंगाल चुके हैं। तलाश के लिए विशेष टीम भी बनाई है। बच्चे को ढूंढने पुलिस कोई कोर कसर बाकी नहीं रखेगी।

Related Articles