बिलासपुर

हादसा: सीपत प्लांट में बॉयलर फटा, यूनिट-5 में देर रात काम चल रहा था, 500 मेगावाट की यूनिट ठप

बिलासपुर : बिलासपुर में सीपत स्थित NTPC प्लांट में बुधवार देर रात ब्लास्ट हो गया। धमाका इतना तेज था कि पेंट हाउस की छत उड़ गई। वहीं 500 मेगावाट की यूनिट ठप हो गई है। हालांकि हादसे में कोई जनहानि नहीं हुई। बताया जा रहा है कि प्लांट में बॉयलर फटने के कारण ऐसा हुआ है। हालांकि अभी ज्यादा जानकारी सामने नहीं आ सकी है। जानकारी के मुताबिक, प्लांट के 500 मेगावाट की यूनिट-5 में देर रात काम चल रहा था। इसी दौरान करीब 11 बजे उसकी दूसरी इकाई में शिफ्ट चेंज ओवर के समय ब्लास्ट हो गया। बताया जा रहा है कि ड्रम का राइजर फटने से बॉयलर में ब्लास्ट हुआ है। धमाका इतनी तेज था कि उससे पेंट हाउस की छत तक बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई और टूट कर नीचे गिर पड़ी। ब्लास्ट के कारण प्लांट में 500 मेगावाट की यूनिट ठप होने से उत्पादन भी बाधित हो गया है। घटना से जनरेशन का भी बड़ा नुकसान होना बताया जा रहा है। हालांकि शिफ्ट चेंज ओवर के समय हादसा होने के कारण कोई जन हानि की खबर नहीं है। इसके बावजूद NTPC प्रबंधन मामले को दबाने में लग गया है।फरवरी 2019 : बिलासपुर के सीपत स्थित प्लाट में बॉयलर बॉटम में काम करते समय DGM सहित 9 मजदूर करीब 20 फीट ऊंचाई से नीचे गिर गए थे। इस दौरान नीचे पानी में गिरने के कारण कोई जन हानि नहीं हुई थी। हालांकि DGM जरूर गंभीर रूप से घायल हो गए थे। अगस्त 2014 : कोरबा स्थित पावर प्लांट की 7 नंबर इकाई में काम चल रहा था। उसी समय बॉयलर का पाइप फट गया। इसमें दो इंजीनियर समेत 8 कर्मचारी गर्म राख की चपेट में आ कर झुलस गए थे। सभी को NTPC कोरबा के अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद बिलासपुर के अपोलो अस्पताल के लिए रवाना किया गया था।

Related Articles