रायपुर

गणेश विसर्जन मामले में नगर निगम ने लिया बड़ा एक्शन….. जोन कमिश्नर को हटाया

रायपुर

गणेश प्रतिमा के विसर्जन के दौरान निगम के कर्मचारियों द्वारा कचरा गाड़ी में मूर्तियों को ले जाने और फेंककर विसर्जित करने वाली घटना मामले में रायपुर नगर निगम ने कार्रवाई करते हुए जोन कमिश्नर नेतराम चंद्राकर को पद मुक्त कर दिया है। इस पूरे मामले में मेयर ऐजाज ढेबर ने कहा, यह जो घटना घटी वह निंदनीय थी। हमारी जांच समिति ने पाया कि जोन कमिश्नर की जिम्मेदारी थी, उन्होंने लापरवाही की, इसलिए जोन कमिश्नर को हटाया गया है। अगर किसी के पास इस बात के सटीक प्रमाण है कि कचरे की गाड़ी में गणेश मूर्ति को लाया गया तो कार्रवाई होगी। बीजेपी के आरोपों पर मेयर ऐजाज ढेबर ने कहा, भाजपा नेताओं ने मामले को तोड़मरोड़ कर पेश किया। भाजपा धर्म के नाम पर राजनीति कर रही है। उन्होंने कहा, इंदौर में भी घटना घटी है, भाजपा के लोग यह भी देखें। बता दें कि इस मामले में बीजेपी नेत्री विश्वदिनी पांडे ने पंडरी थाना पहुंचकर थाना प्रभारी को ज्ञापन सौंपा और मामले में महापौर एजाज ढेबर व निगम कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

क्या था पूरा मामला
बीते सोमवार को सोशल मीडिया पर महादेव घाट की कुछ तस्वीरें और वीडियो सामने आए थे। इनमें कचरे की गाड़ी में भगवान गणेश की प्रतिमाओं को महादेव घाट में बने अस्थाई कुंड में लाया गया था। कुछ कर्मचारी इन्हें असंवेदनशील ढंग से कुंड में फेंकते नजर आ रहे थे। मीडिया से चर्चा के दौरान बीजेपी नेत्री ने कहा कि हम सभी हिंदू हैं और भगवान गणेश की 10 दिनों तक पूजा-अर्चना के बाद उन्हें विसर्जित करते हैं। निगम के बने अस्थाई कुंड के पास लोगों ने अपनी प्रतिमाओं को छोड़ा और निगम के कर्मचारियों ने प्रतिमाओं का अनादर किया, जो कि बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Related Articles