छत्तीसगढ़

मछलियां भगाने पर 6 वर्षीय मासूम की हत्या, किशोर ने 8 वर्षीय भाई के साथ मिलकर दफन की लाश

जशपुरनगर

मछली पकडऩे के विवाद में 6 वर्षीय मासूम की 15 वर्षीय किशोर ने गला दबाकर हत्या कर दी थी। इसके बाद अपने 8 वर्षीय भाई के साथ मिलकर गड्ढा खोदा और मासूम का शव दफन कर दिया। झाडिय़ों से मिट्टी को ढककर घर चले गए थे। इधर मासूम के माता-पिता ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने जब मामले की जांच की तो वे भी हैरान रह गए। पुलिस ने दोनों बाल अपचारियों को हिरासत में लिया और विधि सम्मत कार्रवाई की। जशपुर जिले के आस्ता थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम धरधरी निवासी 6 वर्षीय सुलेन्द्र पिता रामेश्वर 3 दिन पहले से लापता था। 6 साल के सुलेन्द्र की गुमशुदगी की सूचना परिजनों द्वारा 2 दिन पहले थाने में दी गई थी। पुलिस ने मामले में जब पड़ताल की तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। मामले का खुलासा तब हुआ जब मृतक सुलेन्द्र के भाई ने यह जानकारी दी कि घटना दिवस को उसने अपने भाई को तालाब की ओर जाते देखा था, जहां एक 15 साल का बाल अपचारी डांग-बन्सी से मछली मार रहा था। इस सूचना पर पुलिस ने संबंधित बाल अपचारियों से जब पूछताछ की तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। घटना दिवस सुलेन्द्र ने मछली मार रहे 15 वर्षीय बाल अपचारी से कहा कि मुझे भी मछली मारने डांग-बंसी दो, जिस पर उसने मना कर दिया तो सुलेन्द्र ने तालाब में एक पत्थर फेंक दिया, इससे मछलियां भाग गईं। तालाब में पत्थर फेंके जाने से किशोर बौखला गया और 6 वर्ष के मासूम को दौड़ा कर पहले उसके शरीर में गंभीर चोट की, इसके बाद गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। जब सुलेन्द्र की मौत हो गई तो 15 वर्षीय बाल अपचारी ने अपने 8 वर्षीय छोटे भाई को घटनास्थल पर बुलाकर लाया। फिर दोनों ने सुलेन्द्र का शव पास के जंगल में ले जाकर गड्ढा बनाते हुए उसमें दफन कर दिया। गड्ढे को झाडिय़ों से ढक दिया और घर चले गए थे। पुलिस ने दोनों बाल आपचारियों को संरक्षण में ले लिया है और विधि अनुरूप कार्रवाई की गई।

Related Articles