छत्तीसगढ़

अम्बिकापुर में पिता पुत्र के नृशंस हत्या की गुत्थी सुलझी- 10 घंटों में हत्यारों तक पहुंची सरगुजा पुलिस

अंबिकापुर

जिले के दरिमा पुलिस को रविवार की सुबह जानकारी मिली की ग्राम कुम्हरता निवासी शोभनाथ 60 वर्ष व उसके पुत्र प्रमोद गोंड़ 30 वर्ष की लाश पगडंडी रास्ता में खून से लथपथ पड़ी है। सूचना पर पुलिस ने घटना की जानकारी तत्काल एसपी अमित तुकाराम कांबले को दी। इसके बाद एसपी व एएसपी विवेक शुक्ला के नेतृत्व में एसडीओपी अखिलेश कौशिक व थाना प्रभारी दरिमा आशा तिर्की घटनास्थल पर पहुंचे। अधिकारियों के निर्देश के बाद एफएसएल व डॉग स्क्वायड की टीम ने घटनास्थल की जांच की। घटनास्थल पर उपस्थित ग्रामीणों से पूछताछ करने पर पता चला की शनिवार रात्रि लगभग 9 बजे मारने पीटने तथा चिल्लाने की आवाज सुनाई दी थी, किंतु डर की वजह से कोई बाहर नहीं निकले थे। पूछताछ में यह भी जानकारी मिली कि गांव के 3 भाई दल्लू उर्फ दीनदयाल, दलबीर तथा बलबीर का विवाद मृतक पिता-पुत्र से काफी दिनों से चल रहा था। इसी प्रकार गांव के ही अमरिका का भी जमीन विवाद मृतकों के साथ था। अमरिका मृतक का रिश्तेदार भी है। जमीन विवाद को लेकर दल्लू उर्फ दीनदयाल उसके भाई दलबीर तथा बलबीर और अमरिका चारों मृतक पिता-पुत्र के साथ रंजिश रखते थे। शनिवार की शाम को शोभनाथ का विवाद दल्लू उर्फ दीनदयाल के साथ हुआ था। दोनों के बीच गाली-गलौज भी हुई थी। इसके बाद रात को दल्लू उर्फ दीनदयाल अपने 2 भाई दलबीर, बलबीर तथा अमरिका चारों शोभनाथ व उसके पुत्र को जान से मारने की योजना बनाई, फिर चारों आरोपी लाठी-डंडा व टांगी से लैस होकर शोभनाथ के पास पहुंचे। शोभनाथ अपने पुत्र प्रमोद के साथ जंगल के समीप फसल की रखवाली कर रहा था। इसी बीच चारों ने पिता-पुत्र की पीट-पीटकर तथा टांगी से वारकर हत्या कर दी। एएसपी विवेक शुक्ला ने बताया कि मृतक पिता-पुत्र गांव के लोगों का फसल रखवाली का काम करते थे। घटना दिवस दोनों घर से करीब 100 मीटर दूरी पर जंगल के समीप रात में फसल रखवाली कर रहे थे। आरोपियों ने वहीं जाकर घटना को अंजाम दिया था। घटना को अंजाम देने के बाद दल्लू व अमरिका अपने-अपने घर में थे। जबकि दलबीर व बलबीर दूसरे गांव में काम करने चले गए थे। पुलिस जब इनसे पूछताछ करने घर पहुंची तो घर वालों ने बताया कि वे नहीं है लेकिन पुलिस ने दोनों को घर से गिरफ्तार किया है। जांच के दौरान डॉग सीधे अमरिका के घर के भीतर चला गया था। पुलिस ने इसके घर से घटना में प्रयुक्त टांगी, पाइप व डंडा बरामद किया गया है। वहीं पुलिस ने दूसरे गांव से दलबीर व बलबीर को भी गिरफ्तार किया। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 10 घंटे के अंदर चारों आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कर जेल दाखिल कर दिया है पिता-पुत्र की हत्या से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। मृतक शोभनाथ का प्रमोद एकलौता पुत्र था। एक साथ दोनों की हत्या हो जाने से परिवार की परिवरिश करने वाला कोई नहीं है। मृतक प्रमोद का एक पांच साल का बेटा भी है।

Related Articles