रायपुर

लोहा और कोयला कारोबारी के यहां तीन दिन तक चली आयकर विभाग की छापेमारी, हुआ ये बड़ा खुलासा

रायपुर

आयकर विभाग की टीम 15 ठिकानों में जांच पूरी कर तीसरे दिन लौट गई। वहीं लोहा और कोयला कारोबारियों के 15 अन्य ठिकानों में अभी जारी है। इनकी फैक्ट्री, कोलवाशरी, ज्वेलरी शॉप, आटोमोबाइल और ट्रांसपोर्ट को फोकस में रखते हुए तलाशी की जा रही है। बताया जाता है कि घर में मिले करीब 2,25 करोड़ रुपए नगद, 3 करोड़ से ज्यादा की ज्वेलरी मिली थी। कारोबारियों से इसका हिसाब मांगा गया था। इसके दस्तावेज नहीं देने पर इसे जब्त करने की तैयारी चल रही है। तलाशी के दौरान बड़ी संख्या में कच्चे में कैश लेनदेन करने की रसीदे और लूज पेपर मिले है। सूत्रों ने बताया कि कारोबारियों के घरों में सर्वे और तलाशी का काम पूरा कर लिया गया है। घर से बड़ी संख्या में कारोबारी लेनदेन के दस्तावेज मिले है। इसे जांच के लिए जब्त कर लिया गया है। बता दें कि आयकर अन्वेषण विभाग की टीम ने 22 दिसंबर को रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़ कोरबा और दुर्ग स्थित 35 ठिकानों पर छापा मारा था। इसमें 12 घर और 23 कारोबारी प्रतिष्ठान शामिल थे। बताया जाता है कि छापेमारी की कार्रवाई को शनिवार तक पूरा करने की संभावना आयकर विभाग के अधिकारियों द्वारा जताई गई है। साथ ही कुछ स्थानों में बड़ी गड़बड़ी मिलने पर उसे सील भी किया जा सकता है।

बयान एक से नहीं
तलाशी के दौरान मिल रहे बोगस दस्तावेजों के संबंध में कारोबारियों द्वारा आयकर विभाग के अधिकारियों को गुमराह भी किया जा रहा है। पूछताछ के दौरान सभी के बयान आपस में मेल नहीं खा रहे है। इसे देखते हुए टैक्स चोरी की वास्तविक राशि का अब तक निर्धारण नहीं हो पाया है। बता दे कि तलाशी के दौरान गुरूवार को 200 करोड़ रुपए के ज्यादा के कैश में बोगस लेनदेन करने के दस्तावेज मिल चुके है। वहीं रकम के आपस में ट्रांजेक्शन करने का साक्ष्य भी बरामद किया गया है।

स्टॉक का मूल्यांकन
कारोबारियों के कोलवाशरी और लोहा फैक्ट्री में निर्धारित स्टॉक से ज्यादा कोयला, कच्चा लोहा और निर्मित आयरन मिला है। इसका मूल्यांकन करने के साथ ही रजिस्टर में स्टॉक का मिलान किया जा रहा है। बताया जाता है कि कारोबारी द्वारा अपने ट्रांसपोर्टिंग कंपनी से वाहन भेजी जाती थी। इसके चलते अधिकांश वाहनों का नंबर और लोडिंग-अनलोडिंग तक का उल्लेख नहीं किया गया है। इन सभी का मिलान करने के बाद कुल स्टॉक और फर्जीवाड़े का वास्तविक आकड़ा सामने आऐगा।

यहां जांच जारी
रायपुर — 8
रायगढ –5
कोरबा — 5
बिलासपुर- 2

Related Articles