छत्तीसगढ़

इस रिश्ते को मौत भी नहीं तोड़ पाई…पति की मौत के कुछ मिनट बाद पत्नी ने छोड़ी दुनिया, एक चिता पर दोनों का अंतिम संस्कार

नागौर

राजस्थान के नागौर जिले से एक भावुक कर देने वाली घटना सामने आई है जिसे सुनकर हर कोई भाव विभोर हो गया. दरअसल, जिले में एक पत्नी ने अपने पति का शव देखकर कुछ ही मिनट बाद प्राण त्याग दिए और दोनों ने एक साथ अंतिम यात्रा तय की. बताया गया है कि दोनों ने 58 साल पहले एक-दूसरे का साथ निभाने का वादा किया था और पत्नी अब पति का साथ छूटने का सदमा सहन नहीं कर पाई. बता दें कि पति-पत्नी का अंतिम संस्कार भी एक चिता पर किया गया. दोनों के अंतिम संस्कार की रस्में दोनों बेटियों ने निभाई. अब गांव और आस-पास के इलाके में पति-पत्नी की हर तरफ चर्चा हो रही है, लोगों का कहना है कि दोनों बहुत सौभाग्यशाली थे जो जिन्हें जिंदगी और मौत दोनों एक साथ नसीब हुई. बता दें कि नागौर के रूण गांव के रहने वाले 78 साल के राणाराम सेन को सांस लेने में तकलीफ के बाद इलाज के लिए नागौर से जोधपुर ले जाया गया जहां बीते रविवार सुबह 4 बजे उनका निधन हो गया. राणाराम की मौत के बाद अगले दिन शव सुबह 8 बजे घर पहुंचा. घर पहुंचने के बाद पत्नी ने जैसे ही पति का शव देखा वह यह नजारा देख नहीं पाई और सदमे में चले गई और दुनिया छोड़ दी. मृतक पुरूष और महिला के दो बेटियां हैं जिनकी काफी समय पहले शादी हो चुकी है. गांववालों का कहना है कि राणाराम सेन गांव के ही शनिदेव मंदिर में पूजा करते थे. माता-पिता की एक साथ मौत होने से उनकी दोनों बेटियां बहुत दुखी है. गांववालों ने बताया कि माता-पिता के अर्थी को कंधा दोनों बेटियों ने दिया और दोनों को एक ही चिता पर मुखाग्नि दी गई. गांव में दोनों की अंतिम यात्रा बैंड बाजे के साथ निकाली गई जिसमें गांव के लोगों का नम आंखों के साथ हुजूम उमड़ पड़ा.गांव वालों ने बताया कि राणाराम सेन की शादी करीब 58 साल पहले भंवरी देवी के साथ हुई थी. दोनों पति-पत्नी के बीच गहरा प्रेम था. दोनों एक-साथ रहकर एक दूसरे ख्याल रखा करते थे. गांववालों का कहना है कि हमारे शनिदेव मंदिर में हमेशा उनकी कमी हमें महसूस होगी.

Related Articles