छत्तीसगढ़

तिहरे हत्याकांड का खुलासा: एकतरफा प्रेम में युवक ने की थी विधवा की हत्या, फिर मासूम बेटे और ससुर को भी मार डाला

अंबिकापुर

 उदयपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम लैंगा में बुधवार की देर रात तिहरे हत्याकांड की वारदात को अंजाम दिया गया था। अज्ञात आरोपी ने विधवा महिला, उसके बेटे व ससुर की नृशंस हत्या कर दी थी। इस मामले में पुलिस ने विधवा महिला से एकतरफा प्यार करने वाले युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। आरोपी ने तीनों की हत्या करने की बात स्वीकार की है। दरअसल बुधवार की आधी रात वह महिला से मिलने उसके घर पहुंच गया था। महिला जब उस पर चिल्लाने लगी तो उसने वारदात को अंजाम दिया। उदयपुर थाना क्षेत्र के ग्राम लैंगा निवासी मेघुराम सिरदार 50 वर्ष के बेटे भजन सिरदार की 3 वर्ष पूर्व मौत हो गई थी। इसके बाद से उसकी बहू कलावती सिरदार 27 वर्ष अपने 10 वर्षीय बेटे चंद्रिका के साथ ससुराल में ही रहती थी। 8 सितंबर की आधी रात मेघुराम, कलावती व चंद्रिका की किसी ने नृशंस हत्या कर दी। सुबह तीनों का शव अलग-अलग जगह में मिला था। तीहरे हत्याकांड ने इलाके समेत जिलेभर को झकझोर कर रख दिया था। तीहरे हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने एसपी अमित तुकाराम कांबले ने तत्काल टीम का गठन किया और पूछताछ शुरु की। इसी बीच पुलिस को सूचना मिली कि गांव के ही अरविंद सिरदार उर्फ वितना हत्या की वारदात में शामिल हो सकता है। पुलिस ने शक के आधार पर उससे पूछताछ शुरु की तो उसने पहले इस वारदात से इनकार किया, जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो वह टूट गया और तीनों की हत्या करने की बात स्वीकार कर ली। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त चाकू समेत वारदात में प्रयुक्त सामान बरामद कर लिया। पुलिस ने धारा उसे धारा 302, 201 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

आपको बता देें कि आरोपी अरविंद सिरदार विधवा कलावती से एकतरफा प्रेम करता था। वह उससे प्रेम संबंध स्थापित करना चाहता था लेकिन महिला को यह मंजूर नहीं था। वह बार-बार उसे मना करती रही। इसी बीच 8 सितंबर की रात 12 बजे हत्या की नीयत से वह कलावती से मिलने उसके घर पहुंचा था। दरवाजा खोलने के बाद कलावती खाट पर बैठ गई और उसपर चिल्लाने लगी। उसने कहा कि वह इतनी रात उससे मिलने क्यों आया है। इतना सुनते ही आरोपी ने अपने पास रखे चाकू से उस पर वार किया, महिला द्वारा हट जाने के कारण खाट पर सो रहे बेटे चंद्रिका के पेट में घुस गया।

मासूम बेटे के पेट में चाकू लगा तो वह शोर मचाते हुए घर के बाहर भाग निकला और घर से कुछ दूर जाकर बेहोश हो गया। इधर अरविंद ने कलावती के गर्दन पर चाकू व अन्य हथियार से ताबड़तोड़ वार कर नृशंस हत्या कर दी। इसके बाद वह बाहर निकला और बेहोश बेटे पर चाकू से तब तब वार करता रहा जब तक उसकी मौत न हो गई। शोर सुनकर कलावती का ससुर मेघुराम सिरदार भी बाहर निकला तो आरोपी ने उसकी भी हत्या कर दी। आरोपी ने बताया कि हत्या करने के बाद उसने चाकू खेत में छिपा दिया है। वहीं अपने खून लगे कपड़े व मृतिका का मोबाइल जला दिया है। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने चाकू बरामद कर लिया।

कार्रवाई में एसपी के सहित एएसपी विवेक शुक्ला, एसडीओपी अखिलेश कौशिक, फॉरेंसिक एक्सपर्ट कुलदीप कुजूर, निरीक्षक दिलबाग सिंह, उदयपुर थाना प्रभारी धीरेंद्रनाथ दुबे, लखनपुर थाना प्रभारी संदीप कौशिक, एएसआई अजीत मिश्रा, विनय सिंह, राजेंद्र प्रसाद सिंह, प्रधान आरक्षक शत्रुधन सिंह, संतोष गुप्ता, भोजराज पासवान व अजीत मिश्रा शामिल रहे।

Related Articles