छत्तीसगढ़

परिवार के साथ लकड़ी बीनने गई 13 साल की बच्ची पर तेंदुए ने किया हमला, घायल बच्ची की मौके पर ही मौत

धमतरी

तेंदुए ने 13 साल की बच्ची पर हमला कर उसे मार डाला है। बच्ची अपने परिवार के साथ जंगल में लकड़ी बीनने गई थी। इसी दौरान अचानक सामने से आए तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया। तेंदुए के हमले से घायल बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक, गुरुवार सुबह करीब 9:30 बजे देवानंद मरकाम की बेटी गीतांजली अपने परिवार खए साथ मुकुंदपुर खए जंगल में लकड़ी बीनने गई थी। इसी दौरान तेंदुए ने गीतांजली के गले और हाथ पर हमला किया, जिससे उसके शरीर से काफी खून बह गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि जिस वक्त तेंदुए ने बच्ची पर हमला किया था, उस वक्त वो अकेली थी। उसके माता-पिता थोड़ी दूर पर थे। तेंदुए के हमले के बाद बच्ची चीखने लगी। उसकी आवाज सुनकर उसके परिजन मौके पर पहुंचे। तब तक तेंदुआ वहां से भाग चुका था। उधर, बच्ची के परिजन ने वन विभाग को घटना की जानकारी दी। मामला नगरी वन रेंज के मुकुंदपुर पहाड़ी का है। इससे पहले इसी पहाड़ी पर तेंदुए ने एक 10 साल के बच्चे की जान ली थी। 3 महीन पहले मुकुंदपुर पहाड़ी पर तेंदुए ने एक 10 साल के बच्चे पर हमला किया था। घटना में बच्चे की भी मौके पर मौत हो गई थी। बच्चा अपने दोस्तों के साथ जंगल में लकड़ी बीनने गया था। घटना के कुछ दिन बाद वन विभाग की टीम ने तेंदुए को पकड़कर टाईगर रिजर्व इलाके में छोड़ दिया था। वहीं एक बार फिर से तेंदुए के आने की खबर सुनकर ग्रामीणों में दहशत है।

Related Articles