छत्तीसगढ़

इन्द्रावती नदी के पार धुर नक्सली इलाके में पहुंचे कलेक्टर और SP, बाइक से किया दौरा

दंतेवाड़ा

इंद्रावती नदी को एक तरफ जहां बस्तर की जीवन दायिनी कहा जाता है तो वहीं दूसरी तरफ यह नक्सलियों के लिए सुरक्षा कवच भी है। नदी पार का इलाका पूरी तरह से नक्सलियों के कब्जे में है। फिलहाल, बीजापुर और दंतेवाड़ा जिले में करोड़ों रुपए की लागत से कुल 4 बड़े पुल बन रहे हैं। दंतेवाड़ा के छिंदनार-पाहुरनार घाट पर पुल बनने का काम भी पूरा हो गया है। इस पुल से ग्रामीणों की आवाजाही भी शुरू हो गई। पुल बनने के बाद पहली बार अफसर नदी पार के गांवों में पहुंचे। 3 दिन पहले फोर्स ने 5 लाख रुपए के इनामी नक्सली रामसू को मुठभेड़ में ढेर किया। जिसके बाद अब यहाँ हालात बदल रहे, रामसू इस इलाके में विकास पर रोड़ा बना हुआ था। उसकी मौत के बाद अब ग्रामीण भी खुलकर अपनी बात रख रहे हैं। अफसरों ने इंद्रावती नदी पार के पाहुरनार समेत कुल 4 गांवों के लिए शिविर लगाया था। लेकिन जब इस इलाके के अन्य गांवों के लोगों को शिविर के बारे में पता चला तो 4 की जगह 10 गांवों के लोग इस शिविर का हिस्सा बनने पहुंच गए। ग्रामीणों ने खुलकर अपनी समस्या बताई। इंद्रावती नदी से लेकर पाहुरनार गांव तक सड़क निर्माण का काम चल रहा है। यहां सड़क बनाना भी एक बड़ी चुनौती है। सड़क निर्माण की सुरक्षा में लगे जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्सलियों ने कई IED प्लांट कर रखी थी। जिसे जवानों ने बरामद किया और मौके पर ही डिफ्यूज किया है। IED की चपेट में आने से एक जवान भी शहीद हुआ था। नक्सली सड़क निर्माण कार्य में रोड़ा बन रहे थे। कलेक्टर दीपक सोनी और SP डॉ अभिषेक पल्लव ने सड़क निर्माण कार्यों का भी जायजा लिया। हार्डकोर नक्सली मल्लेस और अजय इस इलाके में अब भी सक्रिय है।

Related Articles