जांजगीर चांपा

जांजगीर: सुव्यवस्थित धान खरीदी के लिए 231 जिला स्तरीय नोडल अधिकारी नियुक्त

  • समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी सिर्फ पंजीकृत किसानों से की जाएगी,
  • धान विक्रय के समय किसान पंजीयन प्रमाण पत्र लाना होगा अनिवार्य,

जांजगीर-चांपा

कलेक्टर श्री जितेंद्र कुमार शुक्ला द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में किसानों से समर्थन मूल्य पर सुव्यवस्थित धान खरीदी के लिए 231 जिला स्तरीय नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है।
खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर सुगमता पूर्वक धान उपार्जन (खरीदी) एवं पर्यवेक्षण हेतु जिले के समस्त उपार्जन केन्द्रों हेतु अधिकारियों को आगामी आदेश पर्यन्त जिला स्तरीय नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। नोडल अधिकारियों को निर्देशित कर कहा गया है कि वे अपने प्रभार के धान खरीदी केन्द्रों में जाकर धान खरीदी से संबंधित आवश्यक तैयारियों का निरीक्षण करें और निर्धारित प्रपत्र में पालन प्रतिवेदन 16 नवम्बर, 2021 तक अनिवार्य रूप से कलेक्टर कार्यालय को प्रस्तुत करें।
कलेक्टर ने खरीदी अवधि में समर्थन मूल्य पर किसानों से धान खरीदी की सतत् निगरानी कर साप्ताहिक भौतिक सत्यापन विभागीय एप के माध्यम से कर प्रतिवेदन प्रत्येक मंगलवार को पूर्वान्ह 11.00 बजे तक भेजने कहा है।

खरीफ वर्ष 2020-21 हेतु समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश –

कलेक्टर ने सभी धान खरीदी नोडल अधिकारियों से कहा है कि वे प्रत्येक खरीदी केंद्र में निम्न निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराएं।
खरीदी केन्द्रों में पंजीकृत कृषकों के द्वारा लाए गए धान की ही खरीदी हो।
खरीदी केन्द्रों में धान खरीदी हेतु नियुक्त कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य होगी।
आद्रतामापी यंत्र (किसी भी स्थिति में 17 प्रतिशत से अधिक नमी का धान क्रय नहीं किया जावे) तराजू, काटा-बाट देने काला पोलिथिन व स्टेण्ड की पर्याप्त व्यवस्था हो।
उपार्जन केन्द्र के धान के भरे बारदानों का सतत् परिवहन अनिवार्य रूप से हो ताकि खरीदी हेतु खाली जगह उपलब्ध रहे।
खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त संख्या में खाली बारदाने उपलब्ध रहे एवं बारदाना में समिति का मार्का लगा हो।
असामाजिक तत्व खरीदी में व्यवधान न उत्पन्न करने पाए। धान खरीदी हेतु स्थापित कम्प्यूटर के रख रखाव पर भी सतत निगरानी रखी जाए।

धान खरीदी की वास्तविक मात्रा ही ऋण पुस्तिका में दर्ज की जाये इस हेतु रेण्डम चेक भी किया जाए। बिना ऋण पुस्तिका के धान खरीदी न की जाए। किसानों को जारी किसान पंजीयन प्रमाण पत्र धान विक्रय के समय अनिवार्य रूप से लाना होगा।
सभी खरीदी केंद्र में कृषकों के लिए पेय जल तथा रात्रि में पर्याप्त लाईट की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। धान खरीदी में आ रही समस्याओं का स्थल पर ही निराकरण करें।
नोडल अधिकारी नियमित रूप से उपार्जन केन्द्रों का दौरा कर देखें कि वास्तविक पंजीकृत किसानों से धान की खरीदी की जावे।
समिति के द्वारा उपार्जित धान को किस्मवार स्टेक लगवाया जाये। जिसमें मोटे में से स्वर्णा धान एवं महामाया धान का स्टेक अलग लगाया जाये। इसके अतिरिक्त अन्य मोटा धान एवं ग्रेड ए धान का स्टेक अलग लगाया जाए तथा फिफो सिस्टम से राईस मिलरों को एवं संग्रहण केन्द्र को धान प्रदान किया जावे।
कृषकों को विकय किये गए धान की राशि का भुगतान उनके बैंक खाता में अंतरण कर किया जा रहा है या नहीं इसकी सतत पर्यवेक्षण किया जाए ।
धान खरीदी हेतु आ रही समस्याओं के निराकरण हेतु जिला विपणन अधिकारी के दूरभाष क्रमांक- 07817-222090 (मो.न. 9993235385) नोडल अधिकारी (जाजगीर परिक्षेत्र) जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक मर्यादित जाजगीर के दूरभाष क्रमांक 222725 (मो. नं 7772800627) श्री मनोज त्रिपाठी, खाद्य अधिकारी जांजगीर-चांपा मो.न. 97543-37032, श्री कौशल किशोर साहू सहायक खाद्य अधिकारी 9425278007 उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं 222274 (76989-07800) में सम्पर्क कर सकते हैं।
नोडल अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि वे कलेक्टर कार्यालय (खाद्य शाखा) में प्रगति प्रतिवेदन प्रत्येक सोमवार को दें। और समय-सीमा बैठक के दिन अद्यतन जानकारी के साथ उपस्थित होना सुनिश्चित करें। ताकि त्कलेक्टर द्वारा पृथक से धान खरीदी संबंधी विमर्श कर उचित निर्देश दिया जा सके। जिससे जिले में धान का उपार्जन सुगमतापूर्वक और व्यवस्थित ढंग से हो सके।

Related Articles