Advertisement
देश

‘हम बांटने की राजनीति नहीं करते’, सीएम बघेल बोले- हमने ली है प्रदेश के गरीबों की सुध

नई दिल्ली

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने एक बार फिर भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला है। एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान उन्होने कहा कि हम भगवान राम के नाम पर वोट नही गांगते हैं। सीएम ने कहा कि हम अपने काम के नाम पर वोट मांगते हैं और अपने काम को लेकर प्रदेश की जनता के बीच जाएंगे। इस दौरान सीएम ने अपने कार्यकाल के कामकाज को गिनाया और साथ ही कहा कि 2023 चुनाव में कांग्रेस 75 से ज्यादा सीटें जीतकर दोबारा सत्ताा में काबिज होगी।

सीएम बघेल ने कहा कि हमने कभी राम के नाम पर वोट नहीं मागा, और न मांगेंगे। कण-कण में राम हैं। शबरी के राम, भांजा राम, वनवासी राम, कौशल्या के राम हैं। राम आस्था का विषय हैं। सीएम बघेल ने रमन सिंह पर हमला बोललते हुए कहा कि पिछले 15 साल की बीजेपी सरकार में छत्तीसगढ़ की पहचान खदान के कारण या फिर नक्सल घटनाओं से होती थी। सीएम ने कहा कि अब प्रदेश की पहचान बदली है। भूपेश बघेल ने अपने सरकार के कामकाज को भी गिनाया और कहा कि गांधी जी ने ग्राम स्वराज्य की बात कही थी। प्राचीन समय में गांव में उत्पादन होता था और शहर विपणन का केंद्र था। आज हम छत्तीसगढ़ को उसी दिशा में ले जा रहे हैं। आज छत्तीसगढ़ में गांव संपन्न हुए हैं, उद्योग बढ़ा है। सबकी जेब में पैसा जा रहा है।

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक बीते पांच साल में राज्य में 40 लाख लोग गरीबी रेखा से बाहर आए हैं। जबकि आरबीआई की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी के 15 साल के कार्यकाल के दौरान छत्तीसगढ़ की 40 प्रतिशत जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे थी। हमने डीबीटी से 40 लाख लोगों को गरीबी रेखा से बाहर किया है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि हमारी सरकार में आज 26 लाख किसान अलग-अलग अनाजों की खेती में लगे हैं। जो लोग गांव से शहर गए थे खेती में लाभ देखकर गांव की ओर लौट रहे हैं हैं। तेंदु पत्ता के कारोबार से हजारों लोगों को काम मिला।

सीएम बघेल ने केन्द्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि तेरा फ्री रेवड़ी, मेरा जन कल्याण, यही विचारधारा चल रही है। हमलोग गरीबों को चावल दे रहे हैं तो रेवड़ी है। यदि धान के प्रति क्विंटल 2400 रुपये दे रहे तो रेवड़ी है। यही भारत सरकार लाखों करोड़ रुपये उद्योगपति मित्रों का कर्ज माफ कर देती है तो वह रेवड़ी नहीं बल्कि रबड़ी है।

Related Articles

Leave a Reply