Advertisement
देश

जम्मू-कश्मीर आतंकी हमला: राजस्थान के 4 लोगों की मौत, 2 साल के मासूम की भी गई जान, दर्शन के लिए गए थे वैष्णो देवी

जयपुर

जम्मू कश्मीर में श्रद्धालुओं की बस पर हुए आतंकी हमले में जयपुर के 4 लोगों की मौत हुई है. मृतक राजेंद्र सैनी और उनकी पत्नी ममता सैनी के अलावा उनकी भतीजी पूजा सैनी और 2 साल के लिवांश सैनी की मौत होने की पुष्टि हुई है. हालांकि, पूजा सैनी के पति पवन सैनी जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहे हैं. उनका कटरा अस्पताल में इलाज जारी है.

सभी मृतक जयपुर जिले के चौमू थाना इलाके के पांच्यावाली ढाणी के रहने वाले हैं. वैष्णो देवी माता मंदिर में दर्शन के लिए गए थे. मृतकों में सास-ससुर और उनकी भतीजी के अलावा दोहिता शामिल है. वहीं, उनका जमाई गंभीर घायल है.

इधर, चौमू में मृतक के घर पर लोग ढांढस बंधाने पहुंच रहे हैं. जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले को लेकर लोगों में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिला. मृतकों के परिजन सुशील सैनी ने कहा कि राजेंद्र सैनी के पीछे अब 2 बेटे और एक छोटी बेटी है, जो सभी पढ़ाई करते हैं. उन्हें संभालने वाला अब कोई नहीं है. ऐसे में उन्हें आर्थिक सहायता और भविष्य में सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए.

इसको लेकर केंद्र सरकार और राज्य सरकार से उन्होंने अपील करते हुए कहा कि आतंकी हमले में जिनके परिवार उजड़े हैं, उनकी सहायता की जाए. यदि इन्हें कोई सहारा नहीं मिला तो मृतकों के शवों का अंतिम संस्कार भी नहीं करेंगे.

वहीं, स्थानीय पार्षद मुकेश सैनी ने कहा कि मृतक राजेंद्र सैनी उनके बड़े भाई जैसे थे, जो भाभी ममता, भतीजी पूजा, जमाई पवन सैनी और उनके बच्चे लिवांश संग जम्मू कश्मीर गए थे. जिन पर आतंकी हमला हुआ और बस पलट गई, जिसमें जमाई पवन सैनी घायल हुए हैं लेकिन बाकि परिजनों की कोई सूचना नहीं है.

उन्होंने कहा कि सरकार आंतकवाद कों जड़ से खत्म करने के कड़े कदम उठाए. हाल ही में जयपुर के रामगंज के रहने वाले एक मुस्लिम दंपति पर भी पहलगाम में आतंकी हमला हुआ था, लेकिन उनकी जान बच गई.

वहीं, चौमू एसीपी अशोक चौहान ने बताया कि राजेंद्र सैनी और उनकी पत्नी के साथ भतीजी और उनका दामाद अपने बच्चे के साथ वैष्णो देवी गए थे. जहां आतंकी हमले में राजेंद्र, ममता, पूजा और 2 साल के बच्चें की मौत की पुष्टि हुई है. जिनका स्थानीय अस्पताल में पोस्टमार्टम किया जा रहा है.

राजेंद्र की भतीजी का मुरलीपुरा चरणनदी 14 नंबर के पास ही ससुराल है, जिन्होंने एक साथ ही दर्शन का प्लान बनाया था. मृतकों के शव दिल्ली के जरिए चौमू लाए जाने की प्रक्रिया चल रही है.

Related Articles

Leave a Reply