छत्तीसगढ़

मृत SECL कर्मचारी के खाता से हो रहा था पैसा गायब….बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर रचा पूरा खेल

कोरिया
एक बेटी ने अपने प्रेमी से मिलकर अपने मृत पिता के खाते से मोटी रकम निकाल ली, मामले का खुलासा तब हुआ जब दिनांक 11.06.2021 को मृत एसईसीएल कर्मचारी का पुत्र प्रार्थी संजय दास पिता जगत दास उम्र 26 साल निवासी गेल्हा पानी थाना चिरमिरी का चौकी कोरिया में उपस्थित होकर एक लिखित शिकायत पत्र पेश किया कि प्रार्थी के स्वर्गीय पिता जगत दास के सेंट्रल बैंक के खाता से प्रार्थी के जानकारी के बगैर करीब 450000 रूपये किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा आहरित किया गया है। प्रस्तुत आवेदन को संज्ञान में लेने पर आवेदक की शिकायत जांच पश्चात आवेदक के पिता के खाते से धोखाधड़ी कर रकम आहरण कर ना पाए जाने पर थाना चिरमिरी में अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया। प्रकरण दर्ज कर अज्ञात आरोपी को पकडऩे हेतु पुलिस अधीक्षक कोरिया श्री संतोष कुमार सिंह के निर्देशन एक विशेष टीम गठित कि गई।

जिसमें थाना चिरमिरी, पुलिस चौकी कोरिया एवं साइबर सेल की टीम द्वारा उक्त मामले की पतासाजी की जाने लगी, काफी गहन अध्ययन करने के बाद साइबर सेल के द्वारा फर्जी ट्रांजैक्शन के सभी बिंदुओं को बारीकी से विश्लेषण किए जाने पर पाया गया कि ऑनलाइन ट्रांसेक्शन पेटीएम एप के माध्यम से दिनांक 30 जनवरी 2021 से 4 जून 2021 के मध्य रूपये 419800 भारतीय स्टेट बैंक के खाते में ट्रांसफर कर एटीएम के माध्यम से अंबिकापुर में निकाला गया है, उपरोक्त अपराध की विवेचना के दौरान गठित विशेष टीम को अंबिकापुर रवाना किया गया, विशेष टीम द्वारा आरोपी के अलग-अलग ठिकानों पर दबिश देकर आरोपियों को तलब कर पूछताछ किया गया।

मृत एसईसीएल कर्मचारी की पुत्री महिला आरोपी शीला दास द्वारा अपने स्वर्गीय पिता जगत दास के उपरोक्त खाता से पेटीएम के माध्यम से अपने प्रेमी सूरज सिंह के साथ मिलकर आरोपी सूरज के भारतीय स्टेट बैंक के खाता में ट्रांसफर कर एटीएम से निकाल कर खर्च करना स्वीकार किया गया, आरोपी सूरज के द्वारा उक्त धोखाधड़ी के पैसे से 3 नग मोबाइल हैंडसेट एक नग सोने की अंगूठी 1 सेकंड हैंड यामाहा क्र15 मोटरसाइकिल को खरीदने एवं अपनी गिरवी रखी हुई टाटा माझा कार को छुड़ाने तथा शेष नगद पैसे से अपना कर्जा चुकाने में खर्च करना पाया गया। आरोपियों के कब्जे से 03 नग मोबाइल हैंडसेट, एक नग पेटीएम कार्ड 1 नग एटीएम कार्ड, एक नग सोने की अंगूठी, 01 सेकंड हैंड यामाहा ह्म्-15 मोटरसाइकिल, एक टाटा माज़ा कार कुल मसूर का रूपये 350000 का जप्त किया गया आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड में भेजा गया। साइबर अपराधी को पकडऩे में निरीक्षक अश्वनी सिंह, सहायक उप निरीक्षक राकेश शर्मा, प्रधान आरक्षक सुनील साहू, आरक्षक रमेश यादव, महिला आर. शुशीला एवं साइबर सेल कोरिया से सुरेंद्र गुप्ता, पुष्कल सिन्हा, प्रिंस राय, अरविंद कॉल का सराहनीय योगदान रहा। एसपी द्वारा उक्त अपराध और साइबर क्राइम को दृष्टिगत रखते हुए कहा गया कि अपना बैंक एकाउंट नंबर, पासवर्ड आदि किसी को न बताएं, अपने इंटरनेट बैंकिंग और बैंकिग ट्रांजिक्शन का इस्तेमाल कभी भी सार्वजनिक स्थान जैसे कि साइबर कैफे, पार्क, सार्वजनिक मीटिंग और किसी भीड़-भाड़ वाले स्थान पर न करें। अपना एटीएम का पिन कोड लिख कर नहीं रखें और न हीं किसी को ओटीपी बताएं। फर्जी कॉल से बचें। साथ ही परिवार के सदस्यों खासकर बच्चो को ऐसी जानकारी न दे जिससे वह पैसे को आसानी से ट्रांसेक्शन कर सके, आपकी सावधानी ही आपकी सतर्कता है।

Related Articles