छत्तीसगढ़

थाना में बजी शहनाई: प्रेमी जोड़े ने लिए सात फेरे

जगदलपुर

नकसल प्रभावित इलाके में स्थित मारडूम थाना में शहनाई बजी। यहां पुलिस ने पूरे रीति-रिवाज से एक प्रेमी जोड़े का विवाह करवाया। घराती और बराती दोनों पुलिस वाले बने। परिजन ने विवाह से इंकार किया तो दोनों प्रेमी युवक-युवती ने थाना पहुंच पुलिस की शरण ली। जहां पुलिस ने पहले इनके बालिग होने का प्रमाण मांगा, फिर परिजन को बुला कर शादी के लिए राजी किया। इसके बाद दोनों प्रेमी-प्रेमिका की शादी रचाई। युवक जहरू राम कश्यप (30) नाक टोका गांव में आश्रम में पदस्थ है। इसी गांव में ही रहने वाली युवती शनी मंडावी (20) से 2 साल पहले इसे प्रेम हुआ था। घर वालों से छिपते-छिपाते एक दूसरे से मिलते भी थे। वहीं कुछ महीने पहले दोनों ने जब अपने परिवार से अपने प्यार के बारे में बता कर एक-दूसरे से शादी करने की बात कही, तो परिजनों ने सख्ती बरती और प्रेम विवाह करने के लिए साफ मना कर दिया। परिजनों ने पुलिस को बताया कि, उनके परिवार में आज तक किसी ने भी लव मैरिज नहीं की है। प्रेमी जोड़े ने साथ जीने मरने की कसमें खाई थी, इसलिए इन्होंने घर से भागने का निर्णय लिया और सीधे मारडूम थाना पहुंच गए। जहां दोनों ने अपने प्रेम के बारे में पुलिस जवानों को बताया। इसके बाद थाना के जवानों ने इनके बालिग है या नहीं इसका पता लगाया। दोनों के परिजन को पुलिस थाना बुलाकर समझाइश दी गई। इस बीच काफी देर तक तू-तू मैं-मैं भी चली। लेकिन, पुलिस की समझाइश के बाद परिजन बच्चों की खुशी के लिए राजी हो गए। परिजन ने कहा कि, हम गांव जाकर धूमधाम से बच्चों की शादी करेंगे। लेकिन, पुलिस को परिजनों की बातों पर यकीन नहीं हुआ और उन्होंने थाना में ही शहनाई बजवाई। गांव के पुजारी को बुलाया गया जिन्होंने थाना परिसर में स्थित मंदिर में मंत्र पढ़ा, प्रेमी ने अपनी प्रेमिका की मांग में सिंदूर भरा, मंगलसूत्र भी पहनाया। फिर दोनों ने 7 फेरे लेकर जीवन भर एक दूसरे का साथ निभाने का वचन भी लिया। परिवार की मैजूदगी में पुलिस ने पूरे रीति-रिवाज से दोनों का विवाह करवाया। इस दौरान घराती और बराती दोनों पुलिस जवान ही बने।

Related Articles