जांजगीर चांपा

शांति जीडी पावर एंड इस्पात प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ….प्रशासन ने की पंचनामा की कार्रवाई

  • जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उमा राजेन्द्र राठौर की शिकायत के बाद हरकत में आये अधिकारी

जांजगीर-चांपा

जांजगीर चांपा जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उमा राजेन्द्र राठौर ने शांति जी डी पावर एंड इस्पात के मनमानी के खिलाफ दिये ज्ञापन के बाद प्रशासन ने सख्त रवैया अपनाते हुए आज कुरदा पहुंचकर मौका मुयाना पर शिकायत सही पाया गया, प्रशासन के अधिकारियों द्वारा तत्काल पंचनामा की कार्रवाई कर प्रतिवेदन तैयार किया गया। उल्लेखनी है कि जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उमा राजेन्द्र राठौर ने तीखा तेवर अपनाते हुए राज्यपाल को चिट्टी और कलेक्टर व जिला पंचायत सीईओ को ज्ञापन सौंपा था। जिला पंचायत सदस्य ने अपने ज्ञापन में लिखा था कि पूर्व जिला पंचायत सदस्य साहेब लाल साहू द्वारा जिला कलेक्टर और एसडीएम चांपा को लिखित में शांति जीडी पावर प्लांट के निकले अनुपयोगी राखड़ को कुरदा ग्राम के गौठान में डालने के संबंध में शिकायत पत्र दिया गया फिर भी जिले के जवाबदार अधिकारी द्वारा किसी प्रकार का जांच नहीं किया गया और ना ही कोई कार्यवाई की गई, जिस पर स्वयं जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उमा राजेन्द्र राठौर ने संज्ञान लेते हुए राज्यपाल के नाम चिट्ठी प्रेषित करते हुए बताया कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार की महत्वकांक्षी योजना नरवा गरवा घुरवा बाड़ी और चारागाह गौठान बनाना है और इस योजना के लिए चिन्हाकित भूमि पर पावर प्लांट द्वारा अनुपयोगी राखड़ को डालना इस योजना में पानी फेरने के समान हैं, और ग्रामीणों ने बताया कि गौठान निर्माण के लिए 33 लाख रुपए स्वीकृत हुए हैं जिसमें पूर्व सरपंच द्वारा कुछ कार्य कराया गया था और उसी स्थान में मनरेगा के तहत वर्तमान सरपंच द्वारा तालाब बना दिया गया है तथा वहीं पर दूसरे स्थान में नया गौठान बनाया जा रहा था जिसमें शांति जीडी पावर प्लांट से निकले अनुपयोगी राखड़ को पाटा गया है। इसके अलावा क्षेत्रवासी इस प्लांट से बहुत ही ज्यादा परेशान और चिंतित है ऐसे ही एक मामला मुद्दा ग्राम के गणेश राम चौहान का है जिनका जमीन प्लांट परियोजना चालू होने से पहले ले लिया गया है लेकिन आज दिनांक तक उसको मुआवजा और किसी भी प्रकार से शासन के योजनाओं के नियम अनुसार कोई भी लाभ नहीं दिया गया है। जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उमा राजेन्द्र राठौर ने बताया कि जो राखड़ शांति जीडी पावर प्लांट द्वारा लाया जा रहा है वह मुख्यमंत्री सड़क योजना से निर्माण किया गया सड़क है जिसकी अधिकतम क्षमता 12 टन होती है जिसके कारण भारी वाहन के आने जाने से सड़क क्षतिग्रस्त हो गया है और उक्त राखंड उड़ कर तालाबों मे जा रहा है जिससे तालाब के पानी में राखड़ का परत जम रहा है और आसपास के सार्वजनिक वातावरण एवं मानव स्वास्थ्य व पर्यावरण पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। पूर्व जिला पंचायत सदस्य साहेब लाल साहू ने बताया कि शांति जीडी इस्पात पावर प्लांट जो महुदा में स्थापित है वह पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल के रिश्तेदार अनूप अग्रवाल का प्लांट है इसीलिए कोई भी जवाबदार अधिकारी कार्यवाही करने से कतराते हैं बल्कि उनके 56 भोग खाने के लिए तैयार रहते हैं l

जिले के जीवनदायिनी हसदेव नदी में राखड़ बह कर जा रहा है जिससे हसदेव नदी का जल प्रदूषित हो रहा है जो वायु प्रदूषण के साथ-साथ भूजल को भी प्रदूषित कर रहा है श्रीमती राठौर ने बताया कि फ्लाई ऐश राखड़ में मौजूद भारी तत्व रहते हैं जैसे मरकरी शीशा फ्लोराइड मानव शरीर में पेयजल के माध्यम से मानव शरीर में पहुंचकर कैंसर फ्लारोसीस एवं विभिन्न मानसिक रोग के शिकार जनता हो रहे हैं उमा राजेन्द्र राठौर ने राज्यपाल कलेक्टर और जिला पंचायत सीईओ को ज्ञापन सौंपकर अनुरोध किया कि जिले के जनता के उत्तम स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए वहां से राखड़ को हटवाने एवं गौठान चारागाह में मनमानी पूर्वक राखड़ डालने तथा जीवनदायिनी हसदो नदी में बहाने वाले प्लाट प्रबंधक के मालिक के ऊपर कानूनी कार्यवाही करने का अनुरोध किया था l
आज जिला प्रशासन की ओर से . बिलासपुर संभाग के पर्यावरण..अधिकारियों और माइनिंग विभाग के अधिकारियों द्वारा संयुक्त टीम द्वारा ग्राम कुरदा के गौठान पहुंचर पंचनाम तैयार किया गया।

शांति जीडी पावर एंड इस्पात प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ....प्रशासन ने की पंचनामा की कार्रवाई Pradakshina Consulting PVT LTD

Related Articles