छत्तीसगढ़

घर में मिला अजगर 6 फीट का अजगर, खेतों में 7 फीट का मगरमच्छ, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यू

जगदलपुर/दंतेवाड़ा

बारसूर इलाके से वन विभाग की टीम ने अजगर समेत एक मगरमच्छ को पकड़ा है। बताया जा रहा है कि, बारसूर नगर पंचायत क्षेत्र के एक घर में सोमवार की देर शाम एक 6 फीट का अजगर निकला था। वहीं इसी इलाके में खेतों में काम करने गए ग्रामीणों ने एक बड़े से मगरमच्छ को देखा। जिसकी सूचना दंतेवाड़ा वन विभाग को दी गई थी। मौके पर पहुंचे वन कर्मियों ने घंटों मशक्कत कर दोनों का रेस्क्यू कर सुरक्षित छोड़ दिया है। अजगर को जंगल में और मगरमच्छ को इंद्रावती नदी में छोड़ा गया है। जानकारी के मुताबिक, बारसूर के स्कूलपारा के एक घर के सदस्य आंगन में बैठे हुए थे। इस दौरान उनकी नजर अजगर पर पड़ी। अजगर देखते ही वो सहम गए। सूचना पर वन विभाग की टीम तुरंत पहुंची। टीम ने करीब घंटे भर की मशक्कत कर अजगर को घर से निकाला और पकड़कर जंगल में ले जाकर छोड़ दिया। वन विभाग के डिप्टी रेंजर मंगल कर्मा ने बताया कि, करीब 6 फीट लंबा अजगर पकड़ा गया है। तीन महीने के अंदर 3 अजगर का रेस्क्यू कर उसे जंगल में सुरक्षित छोड़ा गया है। बारसूर में सोमवार की दोपहर खेतों में काम करने गए ग्रामीणों ने फसल के बीच में एक मगरमच्छ को देखा था। मगरमच्छ को देख इलाके में जबरदस्त हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि, यह मगरमच्छ बारसूर के एक तालाब में काफी दिनों से मौजूद था। लेकिन सोमवार को तालाब के पास में ही स्थित खेतों तक पहुंच गया। मौके पर पहुंची रेस्क्यू टीम ने लगभग डेढ़ घंटे तक रेस्क्यू चलाकर मगरमच्छ को सुरक्षित पकड़ा। डिप्टी रेंजर ने बताया कि, इस मगरमच्छ की लंबाई 7 फीट है और इसका वजन लगभग 70 किलो है। मगरमच्छ को सुरक्षित तरीके से इंद्रावती नदी में छोड़ दिया गया है। दंतेवाड़ा जिले के बारसूर इलाके में भारी संख्या में मगरमच्छ पाए जाते हैं। कुछ महीने पहले इंद्रावती नदी के किनारे एक छोटे से बरसाती नाले में मगरमच्छ के करीब 16 बच्चे देखे गए थे। ग्रामीणों की सूचना के बाद वन कर्मियों ने सभी बच्चों को इंद्रावती नदी में सुरक्षित छोड़ दिया था। बताया जाता है कि, इस इंद्रावती नदी के मुचनार घाट में भारी संख्या में मगरमच्छ व घड़ियाल हैं।

Related Articles