छत्तीसगढ़

नशेड़ी भाई ने बड़े भाई पर हंसिया से वार कर उतारा मौत के घाट, मां व बहन ने भाग कर बचाई जान, पुलिस पर भी किया हमला

बिलासपुर 

बिलासपुर में मंगलवार दोपहर नशेड़ी भाई ने अपने ही बड़े भाई पर हंसिया से वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। बीच-बचाव करने आई मां और बहन को भी हंसिया लेकर दौड़ाया। वारदात की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची, तब उन पर भी आरोपी ने हमला कर दिया। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने आरोपी युवक को पकड़ लिया है। सिविल लाइन थाना क्षेत्र के शहर के बीचोंबीच स्थित जरहाभाठा ओमनगर डल्ला गली में कुर्रे परिवार रहता है। परिवार में बड़ा भाई 40 साल का मनोज कुर्रे, 30 साल का विजय कुर्रे, बहन शशि कुर्रे और मां भागमति कुर्रे रहती हैं। दोनो भाई कोई कुछ काम नहीं करते और नशे के आदी हैं। बड़ा भाई मनोज कुर्रे रोज ही सिंधी कालोनी स्थित गुरुद्वारे से खाना लेकर आता और घर में खाता था। मंगलवार दोपहर भी वह खाना लाकर खा रहा था। इस पर विजय ने उसे एतराज जताते उसे मना किया कि रोज-रोज भीख मंगे टाइप खाना लेकर मत आया कर, क्योंकि घर में भी खाना बनता है और खराब हो जाता है। इस पर बड़े भाई ने कहा कि मुझे वहीं का खाना अच्छा लगता है इसलिए लाता हूं। इस पर तुम्हे आपत्ति नहीं होनी चाहिए। इसी बात को लेकर उनके बीच विवाद शुरू हो गया। पहले छोटे भाई विजय कुर्रे ने बड़े भाई मनोज कुर्रे पर पहले रोटी बनाने के तवा से हमला कर दिया, फिर अचानक विजय ने हंसिया निकाल लिया और मनोज पर ताबड़तोड़ वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। इस घटना की खबर मिलते ही सिविल लाइन टीआई शनिप रात्रे अपनी टीम के साथ घटनास्थल पहुंच गए। घर के बैठक में मौजूद आरोपी विजय कुर्रे को टीआई ने सरेंडर करने को कहा, जिससे आक्रोशित होकर विजय कुर्रे ने अपने दोनों हाथों में दो हंसिया ले कर दौड़ाया। टीआई रात्रे व टीम ने किसी तरह बीच-बचाव किया और बाहर निकल गए। इस तरह से पुलिसकर्मी करीब एक घंटे तक मशक्कत करते रहे। तब आरोपी युवक पुलिस की गिरफ्त में आया। पुलिस आरोपी को पकड़ कर थाने ले आई है। आरोपी विजय की मां भागमति व बहन शशि ने पुलिस को बताया कि बीच-बचाव करने पर विजय गुस्से में आ गया। उसने उन्हें भी मारने के लिए दौड़ाया, तब उन्होंने भाग कर अपनी जान बचाई। इस घटना के दौरान उन्हें पड़ोस में जाकर छिपना पड़ा। आरोपी विजय को सरेंडर करने की समझाइश देने पर उसने पहले टीआई पर हंसिया लेकर वार करने का प्रयास किया। टीआई ने किसी तरह बीच-बचाव किया। लेकिन, आरक्षक शिव जोगी के सिर में गंभीर चोट लगी है। पुलिसकर्मियों ने उसे तत्काल इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया। इस बीच पुलिसकर्मी बॉडी गार्ड, हेलमेट वगैरह लेकर पहुंचे और घेराबंदी कर कड़ी मशक्कत के बाद आरोपी को पकड़ लिया।

Related Articles