Advertisement
देश

महाराष्ट्र में एक ही परिवार के 5 लोगों की जहर देकर हत्या, घर की 2 महिलाएं ही निकली कातिल

मुंबई

महाराष्ट्र में एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या से सनसनी फैल गई। आस-पास के लोगों में दहशत का माहौल है। 20 दिनों के भीतर एक-एक करके परिवार के लोगों की मौत होने लगी। इस हत्या के आरोप में घर की दो महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है।

मामले में एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि एक परिवार के 5 लोगों की हत्या के आरोप में दो महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है। कथित तौर पर दोनों महिलाएं मृतकों से छुटकारा पाना चाहती थीं। इसलिए उन्होंने खाने और पानी में जहर मिला दिया। ये जहर वे तेलंगाना से लेकर आई थीं। दोनों ने इन हत्याओं को फूड प्वाइजनिंग के रूप में पेश किया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधिकारी ने कहा कि एक आऱोपी महिला अपने पति और ससुरालवालों के तानों से नाराज थी। वहीं दूसरी आरोपी अपनी पैतृक संपत्ति में बंटवारे को लेकर असहमत थी। जहर के कारण परिवार के दो अन्य लोग और उनका ड्राइवर भी बीमार पड़ गए। हालांकि इलाज के बाद तीनों की हालत स्थिर है।

पुलिस के अनुसार, परिवार के 5 लोगों की मौत 26 सितंबर से 15 अक्टूबर के बीच हुई। रिपोर्ट के अनुसार, मौत से पहले पीड़ितों के अंगों में झुनझुनी, पीठ और सिर में तेज दर्द था। उनके होंठ काले और जीभ भारी हो चुकी थी। लागातार हो रही मौतों से रिश्तेजार और आस-पास के लोग हैरान थे। रिपोर्ट के अनुसार अहेरी तहसील के महागांव गांव में सबसे पहले 20 सितंबर को शंकर कुंभारे और उनकी पत्नी विजया कुंभारे की तबीयत बिगड़ी। देखते ही देखते उनकी हालत गंभीर हो गई। इलाज के लिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया मगर 26 सितंबर को शंकर की मौत हो गई। अगले ही दिन उनकी पत्नी की भी मौत हो गई।

परिवार के लोग शोक मना रहे थे इसी बीच शंकर के बेटे रोशन औऱ दोनों बेटियों कोमल औऱ वर्षा में भी उसी तरह के लक्षण दिखने लगे। उन्हें भी अस्पताल में भर्ती कराया गया मगर इलाज के बावजूद 8 और 15 अक्टूबर के बीच एक-एक करके तीनों की मौत हो गई। इसके बाद शंकर का बेटा सागर माता-पिता का अंतिम संस्कार करने घर गया था लौटने के बाद वह भी बीमार पड़ गया। हालांकि इलाज के बाद उसकी हालत में सुधार है। इतनी ही नहीं इसके बाद ड्राइवर भी बीमार पड़ गया। इसके अलावा परिवार की मदद करने वाला एक रिश्तेदार के भी होठ काले हो गए। उसे भी अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

अधिकारी के अनुसार, डॉक्टर को संदेह है कि पीड़ित किसी तरह के जहर से पीड़ित हैं। पुलिस ने कहा कि रोशन की पत्नी संघमित्रा और शंकर के बहनोई की पत्नी रोजा ने कहा कि परिवार के लोगों की मौत फूड प्वाइजनिंग से हुई हैं।

संघमित्रा पर पुलिस को पहले से शक था
संघमित्रा ने अपनी मर्जी से शंकर के बेटे रोशन से शादी की थी। कुछ महीनों पहले उसके पिता ने सुसाइड कर लिया था। परिवार के लोग उसे ताना मारते थे। वहीं रोजा का अपनी ननद से संपत्ति को लेकर विवाद था। दोनों ने प्लानिंग रची और खाने-पीने के सामान में जहर मिलाकर सबको खिला दिया। ड्राइवर ने गलती से वह पानी का बोतल पी लिया जिसमें जहर मिला था। उस बोतल के बारे में आरोपी महिलाओं का कहना था कि उसमें इलाज के लिए जड़ी-बूटी मिली थी। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply