जांजगीर चांपा

जांजगीर: बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा पहली प्राथमिकता – कलेक्टर

कोविड प्रोटोकॉल का पालन गंभीरता से करते हुए कक्षाएं संचालित करने के निर्देश

  • कलेक्टर ने कनई और धुरकोट के स्कूलों का किया निरीक्षण

जांजगीर-चांपा

छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार जिले में विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ स्कूलों की कक्षाओं का 2 अगस्त से संचालन प्रारंभ कर दिया गया है। कलेक्टर श्री जितेन्द्र कुमार शुक्ला ने आज नवागढ़ विकासखंड की प्राथमिक शाला कनई और शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय धुरकोट का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने कनई स्कूल के प्रांगण में पर्यावरण के प्रति बच्चों को जागरूक करते हुए नारियल पौधे का रोपण किया। क्लास रूम में बच्चों से चर्चा कर पढ़ाई लिखाई व निशुल्क पुस्तक के संबंध चर्चा की। कक्षा तीसरी के विद्यार्थी से पुस्तक वाचन करवा कर कलेक्टर ने अपना पेन प्रदान कर उन्हें प्रोत्साहित किया। धुरकोट स्कूल में विद्यार्थियों से चर्चा कर पाठ्यक्रम से संबंधित प्रश्न पुछे और बच्चों को स्वयं अध्यापन कराया। कलेक्टर ने मोहल्ला क्लास चलाने वाले स्वयं सेवी शिक्षकों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर उनका सम्मानित किया। इस अवसर पर कलेक्टर के समक्ष विद्यार्थियों को पुस्तकों का वितरण किया गया।

इसे भी पढ़े- लोन लिए पैसे को पति कर रहा था शराब में खर्च…पत्नी ने किया मना तो दुपट्टे से गल्ला दबाकर कर दी हत्या

कलेक्टर ने उपस्थित शिक्षकों व पंचायत प्रतिनिधियों से कहा कि शिक्षा पर बच्चों का अधिकार है। लेकिन कोई भी चीज जीवन से बढ़कर नहीं है। इसके लिए स्वस्थ्य रहना जरूरी है। वर्तमान समय में स्वस्थ रहना बड़ी उपलब्धि है। श्री शुक्ला ने कहा कि ने कहा कि बच्चों का स्वास्थ्य सुरक्षा उनकी पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना के दूसरी लहर अभी पूरी तरह समाप्त नही हुई है, ऐसे समय में कोरोना संक्रमण से सुरक्षा संबंधी निर्देशों का कड़ाई से पालन करना होगा। कलेक्टर ने कहा कि सभी बच्चो व शिक्षकों को मास्क पहनना व फिजिकल डिस्टेन्सिग का पालन करना अनिवार्य होगा।

इसे भी पढ़े- अपने एक्स बॉयफ्रेंड और उसके भाई को बदनाम करने के लिए लड़की ने दोस्तो के साथ मिलकर बनाई इंस्टाग्राम पर फेक आईडी, की अभद्र टिप्पणियाँ

कलेक्टर ने कहा कि किसी भी बच्चे में खांसी, बुखार या कोरोना से संबंधित सामान्य लक्ष्ण दिखने पर तीन से पांच दिनो के लिए स्कूल बंद करने का निर्णय संबधित संस्था प्रमुख ले सकते है। इसकी सूचना खंड शिक्षा अधिकारी को तत्काल देना होगा। संक्रमित व्यक्ति के संपर्क वाले सभी लोगों की कोरोना जांच कराई जाएगी। कोरोना संक्रमित पाये जाने पर पूरे गांव में कोरोना से संबंधित सुरक्षा प्रोटोकाल का पालन करना होगा।

इसे भी पढ़े-  जांजगीर: तहसीलदार और नायब तहसीलदारों के संशोधित पदस्थापना आदेश जारी

कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान शिक्षकों द्वारा करवाये जा रहे अध्यापन का अवलोकन किया। मध्यान भोजन के रसोई कक्ष का निरीक्षण कर उन्होंने साफ-सफाई और कोरोना गाईडलाईन का पालन करने का निर्देश दिए। कलेक्टर ने विद्यार्थियों से यातायात सुरक्षा के संबंध में चर्चा की और प्राचार्य को अध्यापन के संबंध मे निर्देश दिए। कलेक्टर द्वारा गणवेश वितरण और पुस्तक वितरण के संबंध में अधिकारियों से जानकारी ली गई। निरीक्षण के दौरान जांजगीर एसडीएम श्रीमती मेनका प्रधान, तहसीलदार श्री अतुल वैष्णव, बीईओ श्री विजय लहरे, एबीईओ राजीव नयन शर्मा, सरपंच, प्राचार्य सहित शिक्षक स्टाफ उपस्थित थे।

Related Articles