रायपुर

घरों व पंडालों में कल विराजेंगे गणपति बप्पा

रायपुर

गणेश चतुर्थी पर शुक्रवार को गणपति बप्पा घरों व पंडालों में विराजित होंगे। बुधवार को शहर के गोलबाजार, सिरासार चौक समेत अन्य स्थलों पर गणेश प्रतिमाओं की जमकर बिक्री हुई। इस वर्ष कोविड संक्रमण के मद्देनजर अधिकतम चार फीट की प्रतिमा स्थापना की अनुमति पद्रान की गई है। कोरोना काल के चलते शहर की बड़ी समितियों द्वारा स्थापना नहीं किया जा रहा है। वहीं इस साल कटक ओड़िशा व बंगाल से भी गिने-चुने मूर्तिकार ही पहुंचे थे। इस साल आमागुड़ा, पंचपथ चौक, नयापारा, कुम्हारपारा, धरमपुरा, पनारापारा समेत 14 समतियों द्वारा स्थापना की तैयारी की जा रही है। पर्व के दो दिन पहले ही मूर्तियों की बिक्री शुरू हो गई है। घरों में स्थापना के लिए जहां एक से डेढ़ फीट की छोटी प्रतिमाओं की बिक्री अधिक हो रही है। वहीं पंडालों के लिए तीन से चार फीट की मूर्तियां बिक रही हैं। जिला प्रशासन द्वारा पर्व के संबंध में गाइड लाइन जारी की गई है। इसके तहत सार्वजिनक पंडालों पर अधिकतम चार फीट तक की मूर्ति स्थापित की जा सकेगी। साथ ही पंडाल का आकार 15 गुना 15 से अधिक नहीं होना चाहिए। दर्शकों के बैठने के लिए अलग से सामने पंडाल नहीं लगाया जा सकेगा। पंडाल में एक समय में 20 से अधिक लोग नहीं बैठ सकेंगे। समिति को चार सीसीटीवी लगाना अनिवार्य होगा ताकि कोरोना संक्रमित होने पर कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा सके। पंडाल में आने वाले व्यक्ति को मास्क व सैनीटाइजर का इस्तेमाल करना जरूरी होगा। विर्सजन के दौरान भंडारा प्रतिबंधित होगा तथा डीजे व ध्वनि विस्तारक यंत्र का प्रयोग भी नहीं किया जा सकेगा।

यह है शुभ मुहूर्त

पंडितों के अनुसार 10 सितंबर शुक्रवार के दिन चित्रा स्वाति नक्षत्र के साथ रवि योग भी होगा। भद्रपक्ष के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी की शुरूआत नौ सितंबर रात दो बजकर छह मिनट से होगी जो 10 सितंबर रात 12 बजकर दो मिनट तक रहेगी। भगवान की प्रतिष्ठा का श्रेष्ठ समय मध्यान्ह काल बताया गया है।

Related Articles