कोरबा

मास्क के लिए डांटने पर युवक तहसीलदार से भिड़ गया, भीड़ ने भी घेर लिया, तहसीलदार को हाथ जोड़कर माफी मांगनी पड़ी

कोरबा 

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर दीपका तहसीलदार का पाली रोड में मास्क चेकिंग के दौरान एक युवक से विवाद हो गया. दोनों के बीच बहस बढ़ गई तो आसपास के लोग एकत्रित हो गए और उन्होंने छात्र का साथ देना शुरू कर दिया. लोगों ने तहसीलदार को इस कदर घेरा कि पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा. काफी मान मनौव्वल के बाद लोग शांत हुए लेकिन शर्त रख दिया कि तहसीलदार माफी मांगें. भीड़ के दबाव में तहसीलदार ने अपने वाहन से उतर कर युवक से हाथ जोड़कर क्षमा मांगी. तब जाकर मामला शांत हुआ. इस मामले को देखते हुए यही कहा जा सकता है कि कोरोना प्रोटोकॉल का जो लोग उल्लंघन करते हैं. क्या उन्हें समझाने या दंडित करने का अधिकार उन जिम्मेदार लोगों के पास नहीं है जो अपनी जान हथेली पर लेकर लोगों के पास जा रहे हैं. हो सकता है कि तहसीलदार ने कुछ अधिक कह दिया होगा किंतु इसका मतलब यह नहीं है कि किसी अधिकारी को कर्तव्य निर्वहन के दौरान एक नवयुवक से माफी मांगने के लिए विवश किया जाए. खास और आम लोगों को इस पर विचार अवश्य करना चाहिए.

Related Articles