Advertisement
देश

बदलने जा रहा NPS का ये नियम, अब रिटायरमेंट पर मिलेगा पहले से ज्यादा पैसा

नई दिल्ली

पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीएफआरडीए) ने युवाओं के लिए नई पेंशन व्यवस्था (एनपीएस) को आकर्षक बनाने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए अथॉरिटी न्यू बैलेंस्ड लाइफ साइकिल नाम से एक फंड पेश करने जा रही है. इससे रिटायरमेंट तक व्यक्ति को एक अच्छा-खासा फंड बनाने में मदद मिलेगी. आइए इसके बारे में समझते हैं.

जल्द ही नई पेंशन व्यवस्था के तहत नए फंड में निवेश का ऑप्शन मिलने जा रहा है. पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीएफआरडीए) ने युवाओं के लिए नई पेंशन व्यवस्था (एनपीएस) को आकर्षक बनाने की तैयारी शुरू कर दी है. इसके लिए अथॉरिटी न्यू बैलेंस्ड लाइफ साइकिल नाम से एक फंड पेश करने जा रही है. इससे रिटायरमेंट तक व्यक्ति को एक अच्छा-खासा फंड बनाने में मदद मिलेगी. पीएफआरडीए की इस प्रस्तावित योजना के तहत इक्विटी फंड में लंबे समय तक अधिक निवेश राशि आवंटित की जा सकेगी. इस योजना के अंतर्गत अंशधारक के 45 साल का होने पर इक्विटी निवेश में धीरे-धीरे कमी आएगी, जबकि अभी 35 साल से यह कटौती शुरू हो जाती है.

न्यू बैलेंस्ड लाइफ साइकिल फंड लाने की योजना
इस तरह एनपीएस से जुड़ने वाले पेंशनधारक को 45 साल की उम्र तक इक्विटी फंड में अधिक निवेश राशि आवंटित करने की सुविधा मिलेगी. इससे उन्हें रिटायरमेंट तक एक बढ़िया फंड तैयार करने में मदद मिलेगी. पीएफआरडीए के चेयरमैन दीपक मोहंती ने शुक्रवार को कहा कि हम अधिक लंबे समय तक इक्विटी शेयर फंड में निवेश आवंटित करने को लेकर दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में न्यू बैलेंस्ड लाइफ साइकिल फंड लेकर आएंगे. इससे इक्विटी फंड में लंबे समय तक अधिक आवंटन किया जा सकेगा.

ऐसे होगा फायदा
उन्होंने अटल पेंशन योजना से संबंधित एक कार्यक्रम में कहा कि एनपीएस की इस नई योजना के अंतर्गत 45 साल के उम्र से इक्विटी निवेश में धीरे-धीरे कमी आएगी जबकि अभी 35 साल से ही यह कटौती शुरू हो जाती है. ऐसा होने पर एनपीएस का विकल्प चुनने वाले लोग लंबे समय तक इक्विटी फंड में अधिक राशि का निवेश कर सकेंगे. इससे दीर्घकाल में पेंशन फंड बढ़ेगा जबकि जोखिम और रिटर्न के बीच संतुलन भी स्थापित होगा.

मोहंती ने अटल पेंशन योजना (एपीवाई) का जिक्र करते हुए कहा कि बीते वित्त वर्ष 2023-24 में एपीवाई से 1.22 लाख नये अंशधारक जुड़े. योजना शुरू होने के बाद से किसी एक वित्त वर्ष में अब तक की यह सर्वाधिक संख्या है. उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष में 1.3 करोड़ अंशधारकों के इस योजना से जुड़ने की उम्मीद है. पीएफआरडीए के मुताबिक, जून 2024 तक एपीवाई से जुड़ने वाले अंशधारकों की कुल संख्या 6.62 करोड़ को पार कर जाने का अनुमान है.

Related Articles

Leave a Reply