Uncategorized

बस इतनी सी बात पर दो छोटे भाइयों ने कर दी बड़े भाई की हत्या, ऐसे सुलझी गुत्थी

देवरिया

उत्तर प्रदेश के देवरिया में 5 दिन पहले खून से लथपथ बोरे में मिले शव का पुलिस ने पर्दाफाश करते हुए मृतक के दो छोटे भाईयों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस की माने तो मृतक अरविंद ने अपने छोटे भाई शुभम को नल खराब होने पर डांट दिया था. इस बात से आक्रोशित शुभम ने अपने बड़े भाई अरविंद की लोहे के रॉड से पीटकर हत्या कर दी. पुलिस का कहना है कि यही नहीं जब मृतक कमरे के अंदर भगा तो शुभम ने दौड़ा कमरे के अंदर घुसकर दरवाजा बंद कर कई बार हमला किया और जब बड़ा भाई मर गया तो दिनदहाड़े शव को प्लास्टिक में लपेटकर बोरे में भरकर बाइक पर लादकर फेंकने निकल पड़ा. इसमें शुभम का साथ उसके नाबालिग छोटे भाई ने दिया. गौरतलब है कि राधेश्याम यादव सेना में नौकरी करते है. ये बरियारपुर थाना क्षेत्र के सरैया के रहने वाले है. इनकी पत्नी और दो बेटे ग़ांव पर रहते हैं, जबकि तीन बेटे व एक बेटी शहर के साकेतनगर कॉलोनी स्थित अपने आवास में रहते हैं. मृतक अरविंद कुशीनगर के हाटा में विद्युत विभाग में संविदाकर्मी है. मृतक अरविंद 27 जुलाई को शुभम से खराब नल को ठीक करवाने के लिए कहकर निकला था, जब दोपहर में वह घर पहुंचा तो नल ठीक नहीं होने पर शुभम को डांटने लगा. यह बात शुभम को इतनी नागवार लगी कि उसने लोहे के पाइप से पीट-पीट कर हत्या कर दी. इसके बाद साक्ष्य छिपाने के लिए शव को ठिकाने लगाने निकल पड़ा. शुभम और उसके नाबालिग भाई ने शव को मुंडेरा बुजुर्ग के पास झाड़ियों में फेंक दिया और एक बाइक को कुछ दूरी पर छोड़ दिया. पुलिस ने विवेचना की तो साकेतनगर में दुकान में लगे सीसीटीवी की मदद से राज खुल गया और दोनो भाई सलाखों के पीछे है. आरोपी शुभम इंटर का छात्र है. एसपी डॉक्टर श्रीपति मिश्रा ने कहा कि पुलिस ने इसमें सीसीटीवी फुटेज रास्ते का लिया और जब उसकी मैचिंग करायी तो प्रथमदृष्टया इनके परिवरवालो इनके भाइयों द्वारा हत्या करना पाया गया और सीसीटीवी फुटेज को संकलित कर इनके कपड़ों से मिलान कराया गया उसके बाद मृतक के दो भाई को पकड़ा गया. एसपी डॉक्टर श्रीपति मिश्रा ने कहा कि नल बनाने को लेकर भाईयों में विवाद हुआ, जिसमें छोटे भाई ने लोहे के रॉड से मार दिया जब वह नल बनाने के लिए नीचे झुका, जब वह कमरे में भगा वहां भी उसने कई वार किया, जिससे उसकी मौत हो गयी, शव को प्लास्टिक में लपेटकर बोरे में भरकर झाड़ी में फेंका गया था.

Related Articles