छत्तीसगढ़

कवर्धा में लगा कर्फ्यू…. सांसद की रैली के बाद हिंसक भीड़ ने गाडिय़ों और दुकानों में की तोडफ़ोड़, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

कवर्धा

दो समुदायों के बीच हुआ झंडा लगाने का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को भाजपा सांसद संतोष पांडेय और पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के नेतृत्व में निकाली गई रैली के बाद एकत्रित भीड़ हिंंसक हो गई। अलग-अलग टुकड़ों में बंटकर उपद्रवी तत्वों ने शहर के अलग-अलग इलाकों में जमकर तोडफ़ोड़ और आगजनी की घटना को अंजाम दिया। उपद्रवियों को रोकने के लिए पुलिस को लगभग दो घंटे तक रूक-रूककर लाठीचार्ज करना पड़ा। स्थिति बिगड़ता देखकर कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने दोपहर बाद पूरे कवर्धा नगर पालिका क्षेत्र में कफ्र्यू लगा दिया है। बता दें कि पहले से यहां धारा 144 लागू है।

यहां के कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी रमेश कुमार शर्मा ने लोक शांति बनाए रखने के लिए सम्पूर्ण नगरपालिका क्षेत्र कवर्धा में कफ्र्यू लगा दिया है। अतिआवश्यक सेवाओं को छोड़कर नगर के कोई भी नागरिक अपने घर से बाहर नही निकलेंगे। कवर्धा शहरी क्षेत्र में पहले से धारा -144 लागू है। कलेक्टर ने आम नागरिकों से शांति, संयम बरतने की अपील की है। कलेक्टर ने कहा कि कफ्र्यू का उल्लंघन करने वालों पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

जारी किया हेल्प लाइन नंबर 
शहर में सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए शहर में कोई व्यक्ति किसी स्थान पर फंसा हुआ है या कहीं पर किसी प्रकार की दुर्घटना घट रही है उसकी जानकारी तत्काल पुलिस कंट्रोल रूम के दूरभाष नम्बर 9479192499 में सूचित करें ताकि समय रहते आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित किया जा सके।

विश्व हिंदू परिषद ने किया था चक्काजाम का ऐलान

मंगलवार को विश्व हिंदू परिषद ने नेशनल हाइवे पर चक्काजाम का ऐलान किया था। उसके पहले सुबह दस बजे राजनंादगांव सांसद संतोष पांडेय और पूर्व सांसद अभिषेक सिंह ने एक रैली निकाली। रैली खत्म होने के बाद भीड़ कई टुकड़ों में बंट गई। एक टोली गांधी चौक, दूसरी धड़ा लोहारा नाका पहुंच गया जहां से इस पूरे घटनाक्रम का विवाद शुरू हुआ था। दोनों ही धड़े ने कुछ देर में घरों के बाहर खड़ी गाडिय़ों और दुकानों में तोडफ़ोड़ करना शुरू कर दिया। कई जगहों पर उपद्रवियों ने गाडिय़ों को आग के हवाले कर दिया। भीड़ को हिंसक होते देख एसपी मोहित गर्ग और एसडीएम ने लाठीचार्ज करने का आदेश दिया। जिसके बाद भीड़ को खदेड़ा गया। कई लोग गांधी मैदान से लगे दर्री पारा बस्ती में घुसकर लोगों से मारपीट करने लगे उन्हें भी पुलिस ने बल का प्रयोग करते हुए रोका। वहीं ठाकुर पारा में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को आंसू गैस का भी इस्तेमाल करना पड़ा।

शनिवार को खंभे पर झंडा लगाने के नाम पर उपजा विवाद कवर्धा शहर में अशांति का कारण बन गया। कुछ लोगों के बीच की लड़ाई दो समुदाय की लड़ाई में बदल गया, फिर देखते ही देखते शहर का माहौल ही बदल गया। तनाव की स्थिति को देखते हुए कलेक्टर ने शहर में धारा 144 लागू कर दिया था।

Related Articles