छत्तीसगढ़

ट्रेलर ने हेडमास्टर को मारी टक्कर, मौके पर मौत, बेटे की हालत गंभीर, गुस्साए लोगों ने 3 घंटे तक बंद किया हाईवे

राजनांदगांव

जिले में मंगलवार सुबह सड़क हादसे में एक हेडमास्टर की मौत हो गई। वहीं उनका बेटा गंभीर रूप से घायल हुआ है। हादसा पीछे से आ रही ट्रेलर की टक्कर मारने के चलते हुआ। बेटे को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं गुस्साए लोगों ने घटना के बाद करीब 3 घंटे तक नागपुर-रायपुर नेशनल हाईवे बंद कर दिया। जानकारी के मुताबिक, पार्रीकला निवासी भाऊदास रामटेके (56) अपने बेटे संजय रामटेके (22) के साथ स्कूल जाने के लिए बस स्टैंड जा रहे थे। उनका बेटा संजय उन्हें गांव से बस स्टैंड छोड़ने के लिए सुबह निकला था। इसी बीच करीब सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर बाप-बेटे हाईवे में स्थित पार्रीकला चौक के पास पहुंचे ही थे कि ये हादसा हो गया। बेटा संजय हाईवे में बने मिडिल कट से दूसरी तरफ जा रहा था। इतने में पीछे से आई ट्रेलर ने उन्हें टक्कर मार दी। हादसा इतना भीषण था कि भाऊदास रामटेके की मौके पर ही मौत हो गई। संजय बुरी तरह घायल हो गया। हादसा इतना जबरदस्त था कि टक्कर मारने वाली ट्रेलर भी अनियंत्रित होकर रोड किनारे चले गई। हालांकि ट्रेलर का ड्राइवर भाग निकला है। मामला सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र का है। बताया जा रहा है कि भाऊदास मानपुर ब्लॉक के बोरिया ठेकेदारी के सरकारी स्कूल में हेडमास्टर के रूप में पदस्थ थे। वे पिछले दिनों अपने घर आए हुए थे। मंगलवार सुबह वह स्कूल जाने के लिए ही घर से निकले थे। गांव से स्कूल की दूरी करीब 75 किलोमीटर है। इस वजह से उनका बेटा संजय उन्हें छोड़ने बस स्टैंड जा रहा था। हादसे के बाद आस-पास के लोग जमा हो गए। वहीं भाऊदास के गांव के लोगों को भी इस घटना की खबर लग गई तो वह भी मौके पर पहुंचे। इसके बाद लोगों ने सुबह 7 बजे से 10 बजे तक नागपुर-रायपुर नेशनल हाईवे जाम कर दिया। लोगों का कहना है कि मिडिल कट स्थाई रूप से नहीं बना होने के कारण ये हादसा हुआ है। लोगों ने बताया कि प्रशासन ने मिडिल कट नहीं बनवाया है। इसी वजह से लोगों ने ही अस्थाई रूप से मिडिल कट बना लिया है। इसी मिडिल कट के कारण कई बार यहां हादसा हो गया है। हमने कई बार मांग भी कर चुके हैं। फिर भी प्रशासन इस पर ध्यान नहीं दे रहा। अब एक फिर से ये हादसा हो गया। ग्रामीणों के चक्काजाम की वजह से सड़क के दोनों तरफ करीब 8 किलोमीटर तक लंबा जाम लगा रहा। बेटे संजय को तुरंत ही राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया था। मगर उसकी हालत को देखते हुए अब भिलाई रेफर कर दिया गया है। लोगों ने प्रशासन ने स्थाई मिडिल कट बनाने की मांग की है। खबर लगते ही एसडीएम और प्रशासनीक अमले के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाइश दी, तब जाकर लोगों ने 3 घंटे बाद चक्काजाम खत्म किया है। कोतवाली पुलिस से भी मामले की शिकायत की गई है, पुलिस अब ड्राइवर का पता लगा रही है।

Related Articles